बिखर जायें हम तो क्या -सैड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

ज़िंदा रहे तो क्या है जो मर जाएं हम तो क्या,दुनिया से खामोशी से गुजर जाएं हम तो क्या,हस्ती ही अपनी क्या है इस ज़माने के सामने,एक ख्वाब हैं जहान में बिखर जायें हम तो क्या।

सैड शायरी

Related Post

अब तो तबियत हमारी बिगड़ने लगी है,कोई चाहत जो हमसे बिछड़ने लगी है,आरज़ू जो कोई दिल में दबी रह गयी,अब बन के धुआँ कहीं उड़ने लगी है,हर अक्स तेरा दिल की गहराई में है,रूह दिल...

वही वहशत, वही हैरत, वही तन्हाई है मोहसिन,तेरी आँखें मेरे ख़्वाबों से कितनी मिलती-जुलती हैं। सैड शायरी

कौन दिल में( बी सी मीणा द्वारा दिनाँक 27-07-2018 को प्रस्तुत )कौन किसे दिल में जगह देता है,पेड़ भी अपने सूखे पत्ते गिरा देता है,वाक़िफ़ हैं हम दुनिया के रिवाजों से,जी भर जाए तो हर...

जिससे लड़ता हूँ मै अब उस को मना लेता हूँ,खूब बदली है तेरे बाद अपनी आदत मैंने। सैड शायरी

इस दौर में अहसास-ए-वफ़ा ढूँढने वालो,सेहरा में कहाँ मिलते हैं दीवार के साए। सैड शायरी

हमें अपने घर से चले हुए,सरे राह उमर गुजर गई,न कोई जुस्तजू का सिला मिला,न सफर का हक ही अदा हुआ। सैड शायरी

leaf-right
leaf-right