बिछड़ के तुम से -बेवफा शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है,यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है,तड़प उठता हूँ दर्द के मारे,ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है,अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

बेवफा शायरी

Related Post

ये नजर चुराने की आदतआज भी नही बदली उनकी,कभी मेरे लिए जमाने से औरअब जमाने के लिए हमसे। बेवफा शायरी

सुबकती रही रात अकेलीतनहाइयों के आगोश़ में,और वो काफिऱ दिन से मोहब्बत करकेउसका हो गया। बेवफा शायरी

जो जले थे हमारे लिऐ,बुझ रहे हैं वो सारे दिये,कुछ अंधेरो ने की थी साजिशें,कुछ उजालों ने धोखे दिये. - बेवफा शायरी

खफा हो गए शायरी( एडमिन द्वारा दिनाँक 15-12-2015 को प्रस्तुत )आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हो गए,महसूस हुआ तब जब वो जुदा हो गए,कर के वफ़ा कुछ दे ना सके वो हमें,पर बहुत...

वो कहता है... कि मजबूरियां हैं बहुत...साफ लफ़्ज़ों में खुद को बेवफा नहीं कहता। - बेवफा शायरी

मैंने कुछ इस तरह से खुद को संभाला है,तुझे भुलाने को दुनिया का भरम पाला है,अब किसी से मुहब्बत मैं कर नहीं पाता,इसी सांचे में एक बेवफा ने मुझे ढाला है। बेवफा शायरी

leaf-right
leaf-right