बेवफा की याद – बेवफा शायरी

न रहा कर उदास ऐ दिलकिसी बेवफा की याद में,
वो खुश है अपनी दुनिया मेंतेरा सबकुछ उजाड़ के।

- बेवफा शायरी

Related Post

इश्क़ ने जब माँगा खुदा से दर्द का हिसाब,वो बोले हुस्न वाले ऐसे ही बेवफाई किया करते हैं। बेवफा शायरी

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी,बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी। - बेवफा शायरी

मेरे नाम से बदनाम( एडमिन द्वारा दिनाँक 04-12-2016 को प्रस्तुत )मुझे तू अपना बना या न बना तेरी खुशी,तू ज़माने में मेरे नाम से बदनाम तो है। - बेवफा शायरी

वफ़ा की तलाश करते रहे हम,बेबफाई में अकेले मरते रहे हम,नहीं मिला दिल से चाहने वाला,खुद से ही बेबजह डरते रहे हम,लुटाने को हम सब कुछ लुटा देतेमुहब्बत में उन पर मिटते रहे हम,खुद दुखी...

बेवफाई सस्ती है( एडमिन द्वारा दिनाँक 25-10-2019 को प्रस्तुत )दिल के दरिया में धड़कन की कश्ती है,ख़्वाबों की दुनिया में यादों की बस्ती है,मोहब्बत के बाजार में चाहत का सौदा है,वफ़ा की कीमत से तो...

तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना,कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे,तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर,कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे। बेवफा शायरी

leaf-right
leaf-right