भरोसा लौट आने का -इंतज़ार शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

मेरी निगाह में फिर कोई दूसरा चेहरा नहीं आया,भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का।

इंतज़ार शायरी

Related Post

ता फिर न इंतज़ार में नींद आये उम्र भर,आने का अहद कर गये आये जो ख्वाब में। - इंतज़ार शायरी

इंतजार तो बस उस दिन का है - जिस दिन तुम्हारे नाम के पीछे हमारा नाम लगेगा. इंतज़ार शायरी

चिराग बुझा दिया( एडमिन द्वारा दिनाँक 03-11-2016 को प्रस्तुत )शब-ए-इंतज़ार की कशमकश मेंन पूछ कैसे सहर हुई,कभी एक चिराग जला दियाकभी एक चिराग बुझा दिया। - इंतज़ार शायरी

दिल की धड़कन को, एक लम्हा सब्र नहीं,शायद उसको अब मेरी ज़रा भी कद्र नहीं,हर सफर में मेरा कभी हमसफ़र था वो,अब सफर तो है मगर वो हमसफ़र नहीं। इंतज़ार शायरी

कोई शाम आती है आपकी याद ( एडमिन द्वारा दिनाँक 14-06-2015 को प्रस्तुत )कोई शाम आती है आपकी याद लेकर,कोई शाम जाती है आपकी याद देकर,हमें तो इंतज़ार है उस हसीन शाम का,जो आये कभी...

इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा,यादें कटती हैं ले ले कर नाम तेरा,मुद्दत से बैठे हैं यह आस पाले,कि कभी तो आएगा कोई पैगाम तेरा। - इंतज़ार शायरी

leaf-right
leaf-right