भुलाओगे कैसे – याद शायरी

हमसे दूर जाओगे कैसे,
दिल से हमें भुलाओगे कैसे,
हम वो खुशबू हैं जो साँसों में बसते हैं,
भला साँसों को रोक पाओगे कैसे।

- याद शायरी

Related Post

जरूरी तो नहीं है कि तुझे आँखों से ही देखूँ,तेरी याद का आना भी तेरे दीदार से कम नहीं। याद शायरी

भीगते हैं जिस तरह( एडमिन द्वारा दिनाँक 07-10-2015 को प्रस्तुत )भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों में डूब कर...इस बारिश में कहाँ वो कशिश तेरे खयालों जैसी। - याद शायरी

यादें वापस ले लो( एडमिन द्वारा दिनाँक 19-11-2015 को प्रस्तुत )मजबूर नही करेंगे तुझे वादे निभानें के लिए,बस एक बार आ जा, अपनी यादें वापस ले जाने के लिए। - याद शायरी

साँस थम जाती है( एडमिन द्वारा दिनाँक 07-10-2015 को प्रस्तुत )साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती,दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती,अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त,कोई भूल नहीं पाता...और किसी...

भूल न जाना अपनी वफ़ा की उन कसमों को,तोड़ न देना हमारे प्यार की उन रस्मों को,आप हमें याद करो या न करो कोई बात नहीं,बस याद रखना साथ बिताये उन लम्हों को। याद शायरी

कभी कभी इतनी शिद्दत से उसकी याद आती है,जो मैं पलकों को मिलाता हूँ तो आँखें भीग जाती हैं। याद शायरी

leaf-right
leaf-right