मत फेंक पानी में – उदासी शायरी

मत फेंक पानी में पत्थर,
उसे भी कोई पीता होगा,
मत रह यूँ उदास जिन्दगी में,
तुम्हें देखकर कोई जीता होगा।

- उदासी शायरी

Related Post

उदासी ठहर गयी( एडमिन द्वारा दिनाँक 30-06-2017 को प्रस्तुत )ख़ाली नहीं रहा कभीआँखों का ये मकान,सब अश्क़ निकल गयेतो उदासी ठहर गयी। - उदासी शायरी

तपिश से बच कर घटाओं में बैठ जाते हैं,गए हुए की सदाओं में बैठ जाते हैं,हम अपनी उदासी से जब भी घबराये,तेरे ख़याल की छाँव में बैठ जाते हैं। - उदासी शायरी

उदास है कोई शख्स( अनिकेश गुप्ता द्वारा दिनाँक 04-01-2018 को प्रस्तुत )बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से,हो सके तो लौट आ किसी बहाने से,तू लाख खफा सही मगर एक बार तो देखकोई टूट...

मौजूद थी उदासी अभी पिछली रात की,बहला था दिल जरा कि फिर रात हो गयी। उदासी शायरी

बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से,हो सके तो लौट आ किसी बहाने से,तू लाख खफा सही मगर एक बार तो देखकोई टूट गया है तेरे जाने से। उदासी शायरी

ख़याल की छाँव( एडमिन द्वारा दिनाँक 27-11-2016 को प्रस्तुत )तपिश से बच कर घटाओं में बैठ जाते हैं,गए हुए की सदाओं में बैठ जाते हैं,हम अपनी उदासी से जब भी घबराये,तेरे ख़याल की छाँव में...

leaf-right
leaf-right