मेरी चाहत है ये – लव शायरी

यूँ तो महरूम-ए-मोहब्बत है ये,
जाने कैसी अधूरी मोहब्बत है ये,
वो मेरे होकर भी मेरे नहीं हैं,
खुदा जाने कैसी चाहत है ये।

- लव शायरी

Related Post

मोहब्बत तेरा तसव्वुर( एडमिन द्वारा दिनाँक 10-09-2018 को प्रस्तुत )लाजवाब कर देते हैं तेरे खयाल दिल को,मोहब्बत तुझसे अच्छा तेरा तसव्वुर है। - लव शायरी

अपने दिल की बात उनसे कह नहीं सकते,बिन कहे भी जी नहीं सकते,ऐ खुदा...ऐसी तकदीर बना,कि वो खुद हम से आकर कहे किहम आपके बिना जी नही सकते। - लव शायरी

गुलाब के फूल को हम कमल बना देते,आपकी एक अदा पर कई गजल बना देते,आप ही हम पर मरती नहीं - वरनाआपके घर के सामने ताजमहल बना देते। लव शायरी

राह-ए-वफ़ा में( एडमिन द्वारा दिनाँक 20-11-2017 को प्रस्तुत )राह-ए-वफ़ा में इक ऐसा मुक़ाम भी आये,तेरे सिवा किसी और की जुस्तजू भी न रहे। - लव शायरी

गिला भी तुझ से बहुत है, मगर मोहब्बत भी,वो बात अपनी जगह है, ये बात अपनी जगह। लव शायरी

बदलना आता नहीं हमें( एडमिन द्वारा दिनाँक 03-06-2016 को प्रस्तुत )बदलना आता नहीं हमें मौसम की तरह,हर इक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं,ना तुम समझ सकोगे जिसे क़यामत तक,कसम तुम्हारी तुम्हें इतना प्यार करते...

leaf-right
leaf-right