मेरी दर्द भरी रातें -दर्द शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

सजा कैसी मिली मुझको तुमसे दिल लगाने की,रोना ही पड़ा है जब कोशिश की मुस्कुराने की,कौन बनेगा यहाँ मेरी दर्द-भरी रातों का हमराज,दर्द ही मिला जो तुमने कोशिश की आजमाने की।

दर्द शायरी

Related Post

सीख रहा हूँ मै भी अब मीठा झूठ बोलने का हुनर,कड़वे सच ने हमसे, ना जाने, कितने अज़ीज़ छीन लिए। दर्द शायरी

देने आये हैं मेरे दर्द की कीमत मुझको,इतने हमदर्द हैं न जाने क्यों लोग मेरे। - दर्द शायरी

जी न पाया मर न पाया,तेरे इश्क़ ने पागल बनाया,साँसें ढूंढ़ती हैं तेरा पता मिल जाये,मिलें जीने की वजह निशानियां तेरी,ढूंढ़ता हूँ यादों में मेरीयाद है हर वो पल जब देखा तुझे,उन्हें फिर से जीने...

हकीकत में खामोशीकभी भी चुप नहीं रहती, - दर्द शायरी

जो नजर से गुजर( एडमिन द्वारा दिनाँक 24-09-2016 को प्रस्तुत )जो नजर से गुजर जाया करते हैं,वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं,कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।...

एक नदिया है मजबूरी कीउस पार हो तुम इस पार हैं हम,अब पार उतरना है मुश्किलमुझे बेकल बेबस रहने दो। दर्द शायरी

leaf-right
leaf-right