मेरी फितरत – एटीट्यूड शायरी – एटीट्यूड शायरी

  • By Admin

  • February 27, 2022

मेरी फितरत

मैं एक संजीदा साहिल हूँ,
मुझे मौजों से क्या मतलब,
कई तूफ़ान आये पर,
मेरी फितरत नहीं बदली।

- एटीट्यूड शायरी

Related Post

जरा सा बिगड़ जाएं( एडमिन द्वारा दिनाँक 13-12-2017 को प्रस्तुत )हमारी सादगी ही गुमनाम रखती है हमें,जरा सा बिगड़ जाएं तो मशहूर हो जाएं। - एटीट्यूड शायरी

जो दिल को अच्छा लगता हैउसी को दोस्त कहता हूँ,मुनाफ़ा देखकर रिश्तों कीसियासत मैं नहीं करता। एटीट्यूड शायरी

अगर तेवर न दिखाओ( एडमिन द्वारा दिनाँक 28-01-2019 को प्रस्तुत )तेवर न दिखाओ तो लोग आँख दिखाने लग जाते हैं।-------------------------------------हम जैसे इतिहास रचते हैं तेरे जैसे पढ़ते हैं।-------------------------------------हम अपना इक्का तभी दिखाते हैं जब सामने...

दिलों से खेलना( लोकेन्द्र बरखने द्वारा दिनाँक 16-05-2017 को प्रस्तुत )दिलों से खेलना हमें भी आता है परजिस खेल मेंखिलौना टूट जाए, वो खेल हमें पसंदनही..! - एटीट्यूड शायरी

जिद तो उसकी है( एडमिन द्वारा दिनाँक 13-12-2017 को प्रस्तुत )मिल जाए आसानी से उसकी ख्वाहिश किसे है,जिद तो उसकी है जो मुक़द्दर में ही नहीं है। - एटीट्यूड शायरी

थोड़ी खुद्दारी भी लाजिमी थी दोस्तो,उसने हाथ छुड़ाया तो हमने छोड़ दिया। एटीट्यूड शायरी

leaf-right
leaf-right