मेरी शोहरत -एटीट्यूड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

लोग मुझे अपने होंठों से लगाए हुए हैं,मेरी शोहरत किसी के नाम की मोहताज नहीं।

एटीट्यूड शायरी

Related Post

हम तो आईना हैं आईना ही रहेंगे,फ़िक्र वो करें...जिनके चेहरे पर कुछ औरदिल में कुछ और है। - एटीट्यूड शायरी

अभी काँच हूँ इसलिए दुनिया को चुभता हूँ,जब आइना बन जाऊँगा - पूरी दुनिया देखेगी। एटीट्यूड शायरी

तेरे गुरूर को देखकर तेरी तमन्ना ही छोड़ दी हमने,जरा हम भी तो देखें कौन चाहता है तुम्हें हमारी तरह। एटीट्यूड शायरी

औकात की बात मत( प्रीतम वसुनिया द्वारा दिनाँक 30-07-2016 को प्रस्तुत )औकात की बात मत कर पगली... हम जिस गली में पैर रखते हैं, वहाँ की लड़कियां अक्सर कहती हैं, बहारो फूल बरसाओ मेरा महबूब...

ऊँचे आसमान से मेरी ज़मीन देख लो,तुम ख्वाब आज कोई हसीं देख लो,अगर आज़माना हैं ऐतबार को मेरे तो,एक झूठ बोलो और मेरा यकीन देख लो। एटीट्यूड शायरी

अजीब शख्सियत है( मोहम्मद शहरुब द्वारा दिनाँक 12-06-2018 को प्रस्तुत )कुछ अजीब शख्सियत है हम दोनों की...न वो #Ghazal में बयाँ होती हैं न हम #Status में। - एटीट्यूड शायरी

leaf-right
leaf-right