मैं तुझमें गुजर जाऊं – रोमांटिक शायरी

जो मैं वक़्त बन जाऊं तू बन जाना लम्हा,
मैं तुझमें गुजर जाऊं तू मुझमें गुजर जाये।

- रोमांटिक शायरी

Related Post

दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो,ख्वाब बनकर नींद चुराया ना करो,बहुत चोट लगती है मेरे दिल को,तुम ख्वाबो में आ कर यूँ तड़पाया ना करो - । रोमांटिक शायरी

रोज़ मिलने को( एडमिन द्वारा दिनाँक 21-10-2016 को प्रस्तुत )​आपसे रोज़ मिलने को दिल चाहता है​​,​​कुछ सुनने सुनाने को दिल चाहता है​​,​​था आपके मनाने का अंदाज़ ऐसा​​,​​कि फिर रूठ जाने को दिल चाहता है​। -...

जो तू है प्यार का बादल तो बार-बार बरस,न भीग पाउँगा मैं तेरे एक नज़ारे से। - रोमांटिक शायरी

बहके बहके ही अंदाज-ए-बयां होते हैं,आप जब होते हैं तो होश कहाँ होते हैं। रोमांटिक शायरी

बड़ा मज़ा आता है उसे बार-बार मुझे सताने में,क्यो भूल जाती है कि नहीं मिलेगा,कोई मुझसा चाहने वाला इस जमाने में,नहीं आए यकीं तो फिर आज़माकर देख लेनाकुछ बात अलग है इस दीवाने में,तारीफ नहीं...

संगमरमर के महल में तेरी तस्वीर सजाऊंगा,अपने इस दिल में तेरे ही ख्वाब जगाऊंगा,यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा,मैं तो प्यार का हूँ प्यासा तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा। -...

leaf-right
leaf-right