मैं तुझे मिलूँ – लव शायरी

मैं चाहता हूँ मैं तेरी हर साँस में मिलूँ,
परछाईयों में,
धूप में,
बरसात में मिलूँ।

- लव शायरी

Related Post

प्यार जता भी देना( महेंद्र सोनकर द्वारा दिनाँक 09-11-2017 को प्रस्तुत )जिसको चाहो उसे चाहत बता भी देना,कितना प्यार है उससे ये जता भी देना,कि दिल उसका कहीं और ना लग जाए,करके इज़हार उसके दिल...

खुशियों की दामन में( रोहित सिंह द्वारा दिनाँक 29-12-2016 को प्रस्तुत )खुशियों की दामन में आँसू गिराकर तो देखिये,ये रिश्ता कितना सच्चा है आजमा कर तो देखिये,आपके रूठने से क्या होगी मेरे दिल की हालत,किसी...

दिल में बसाया आपको( कल्पना दुबे द्वारा दिनाँक 27-11-2016 को प्रस्तुत )दिल के हर कोने में बसाया है आपको,अपनी यादों में हर पल सजाया है आपको,यकीं न हो तो मेरी आँखों में देख लीजिये,अपने अश्कों...

यूँ तो महरूम-ए-मोहब्बत है ये,जाने कैसी अधूरी मोहब्बत है ये,वो मेरे होकर भी मेरे नहीं हैं,खुदा जाने कैसी चाहत है ये। लव शायरी

अब कैसे कहें कि अपना बना लो मुझको,अपनी बाहों की क़ैद में समा लो मुझको,एक पल भी बिन तुम्हारे काटना है मुश्किल,अब तो मुझसे ही चुरा लो मुझको। - लव शायरी

जब तुझे देखा( जाबिर द्वारा दिनाँक 05-04-2018 को प्रस्तुत )ज़िंदगी बहुत ख़ूबसूरत है, सब कहते थे,जिस दिन तुझे देखा, यकीन भी हो गया। - लव शायरी

leaf-right
leaf-right