मोहब्बत की तो आँसू गिरे -अश्क़ शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

मुझको लूट कर जाने वाले चले गए,मेरी आँखों से नींद चुरा कर ले गये,मोहब्बत की दिल से - तो आँसू गिरे,लोग उन्हें मोती समझकर उठा ले गये।

अश्क़ शायरी

Related Post

जान-ए-तन्हा पे गुजर जायें हजारो सदमें,आँख से अश्क रवाँ हों ये ज़रूरी तो नहीं। - अश्क़ शायरी

किसी को बताने से( एडमिन द्वारा दिनाँक 05-05-2015 को प्रस्तुत )किसी को बताने से मेरे अश्क़ रुक ना पायेंगे,मिट जायेगी जिंदगी मगर ग़म धुल न पायेंगे। - अश्क़ शायरी

रुकते नहीं हैं आँसू( दीपक सोनी गोहपारू द्वारा दिनाँक 24-05-2017 को प्रस्तुत )कलम चलती है तो दिल की आवाज लिखता हूँ,गम और जुदाई के अंदाज़-ए-बयां लिखता हूँ,रुकते नहीं हैं मेरी आँखों से आँसू,मैं जब भी...

हमारे शहर आ जाओ सदा बरसात रहती है,कभी बादल बरसते हैं कभी आँखें बरसतीं हैं। - अश्क़ शायरी

हुए जिसपे मेहरबां तुम कोई खुशनसीब होगा,मेरी हसरतें तो निकलीं मेरे आंसुओं में ढलकर। - अश्क़ शायरी

रो लेते हैं कभी कभी,ताकि आंसुओं को भी कोई शिकायत ना रहे। अश्क़ शायरी

leaf-right
leaf-right