मोहब्बत मुझे थी उसी -दिल शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

मोहब्बत मुझे थी उसी से सनम,यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा,मौत भी मेरी चाहत को रोक न सकी,कब्र में भी यह दिल धड़कता रहा ।

दिल शायरी

Related Post

चल न उठके वहीं चुपके चुपके तू ऐ दिल,अभी उसकी गली से पुकार के लाया हूँ। - दिल शायरी

हर तमन्ना हर एहसास( एडमिन द्वारा दिनाँक 10-10-2015 को प्रस्तुत )तू ही बता दिल कि तुझे समझाऊं कैसे,जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे,यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा,मगर उसको ये...

यूँ तसल्ली दे रहे हैं हम दिल-ए-बीमार को,जिस तरह थामे कोई गिरती हुई दीवार को। - दिल शायरी

मत कर मोहब्बत ऐ दिल( एडमिन द्वारा दिनाँक 16-02-2018 को प्रस्तुत )ऐ दिल! मत कर इतनी मोहब्बत तू किसी से,इश्क़ में मिला दर्द तू सह नहीं पायेगा,टूट कर बिखर जायेगा एक दिन अपनों के हाथों,किसने...

सौ बार कहा दिल से..चल भुल भी जा उसको । दिल शायरी

दिल का मरीज़ हूँ( आशिक़ ग़ौरी द्वारा दिनाँक 07-06-2018 को प्रस्तुत )उन्हें मालूम है, मैं दिल का मरीज़ हूँ, फिर भीवो मुझसे पूछते हैं, आशिक़ मिजाज़ कैसा है। - दिल शायरी

leaf-right
leaf-right