मोहब्बत में किसी का -सैड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

मोहब्बत में किसी का इंतजार मत करना,हो सके तो किसी से प्यार मत करना,कुछ नहीं मिलता मोहब्बत कर के,खुद की ज़िन्दगी बेकार मत करना।

सैड शायरी

Related Post

चाहत रास न आयी( कौशल किशोर प्रजापति द्वारा दिनाँक 26-11-2016 को प्रस्तुत )छोंड़ गए हमको वो अकेले ही राहों में,चल दिए रहने वो गैर की पनाहों में,शायद मेरी चाहत उन्हें रास नहीं आयी,तभी तो सिमट...

बर्बाद ज़िन्दगी कर ली( एडमिन द्वारा दिनाँक 26-10-2015 को प्रस्तुत )भूल शायद बहुत बड़ी कर ली,दिल ने दुनिया से दोस्ती कर ली,तुम मोहब्बत को खेल कहते हो,हम ने बर्बाद ज़िन्दगी कर ली।~ बशीर बद्र -...

मैं किसे सुना रहा हूँ ये ग़ज़ल मोहब्बतों की,कहीं आग साजिशों की कहीं आँच नफरतों की,कोई बाग जल रहा है ये मगर मेरी दुआ है,मेरे फूल तक न पहुँचे ये हवा तज़ामतों की। - सैड...

इस दिल से दूर वो कभी जाते भी नहीं हैं,हकीकत में वो हमें चाहते भी नहीं हैं,औरों के लिए तो वो रोते हैं रात भर,हमारे लिए तो वो कभी मुस्कुराते भी नहीं हैं। सैड शायरी

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो?और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं। सैड शायरी

फरेब थी हँसी उनकी हम आशिकी समझ बैठे,मौत को ही हम अपनी ज़िंदगी समझ बैठे,वो वक़्त का मज़ाक था या हमारी बदनसीबी,जो उनकी दो बातों को मोहब्बत समझ बैठे। सैड शायरी

leaf-right
leaf-right