मौसम यूँ रो पड़ेगा -मौसम शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

हमें क्या पता था,ये मौसम यूँ रो पड़ेगा;हमने तो आसमां को बसअपनी दास्ताँ सुनाई है ।

मौसम शायरी

Related Post

तपिश और बढ़ गई इन चंद बूंदों के बाद,काले स्याह बादल ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे। - मौसम शायरी

कुछ तो तेरे मौसम ही मुझे रास कम आए,और कुछ मेरी मिट्टी में बग़ावत भी बहुत थी। मौसम शायरी

एक बेहतरीन बारिश शायरी :- - मौसम शायरी

बादलों ने बहुत बारिश बरसाई,तेरी याद आई पर तू ना आई,सर्द रातों में उठ -उठ कर,हमने तुझे आवाज़ लगाई,तेरी याद आई पर तू ना आई,भीगी -भीगी हवाओ में,तेरी ख़ुशबू है समाई,तेरी याद आई पर तू...

मजबूरियॉ ओढ़ के निकलता हूं घर से आजकल, वरना शौक तो आज भी है बारिशों में भीगनें का । - मौसम शायरी

कुछ तो तेरे मौसम ही मुझे रास कम आए,और कुछ मेरी मिट्टी में बग़ावत भी बहुत थी। - मौसम शायरी

leaf-right
leaf-right