यह मेरा इश्क़ था -इश्क़ शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहा,कि तेरे ही करीब से गुज़र गए तेरे ही ख्याल से ।

इश्क़ शायरी

Related Post

इश्क़ से पहचान से पहले( शिवम् पयासी द्वारा दिनाँक 03-04-2017 को प्रस्तुत )इक बात कहूँ इश्क़ बुरा तो नहीं मानोगे,बड़ी मौज के थे दिन, तुमसे पहचान से पहले। - इश्क़ शायरी

अगर इश्क़ गुनाह है तो गुनाहगार है खुदा,जिसने बनाया दिल किसी पर आने के लिए। - इश्क़ शायरी

फिर इश्क़ का जूनून चढ़ रहा है सिर पे,मयख़ाने से कह दो दरवाज़ा खुला रखे।--------------------------------------अकेले हम ही शामिल नहीं इस जुर्म में जनाब,नजरें जब भी मिली थी मुस्कराये तुम भी थे।--------------------------------------लोग पूछते हैं कौन सी...

दिल की आवाज़ को इज़हार( एडमिन द्वारा दिनाँक 14-05-2015 को प्रस्तुत )दिल की आवाज़ को इज़हार कहते हैं,झुकी निगाह को इकरार कहते हैं,सिर्फ पाने का नाम इश्क नहीं,कुछ खोने को भी प्यार कहते हैं। -...

इश्क के रास्ते में मुमसिक तो बहुत मिले,मिला दे महबूब से न आज तक कोई ऐसा मिला. इश्क़ शायरी

ये इश्क़ जिसके कहर से डरता है ज़माना,कमबख्त मेरे सब्र के टुकड़ों पे पला है । इश्क़ शायरी

leaf-right
leaf-right