यूँ तेरे जिक्र से -लव शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

राह में संग चलूँ ये न गँवारा उसको,दूर रहकर वो करता है इशारे बहुत,नाम तेरा कभी आने न दिया होंठों पर,यूँ तेरे जिक्र से शेर सँवारे हैं बहुत।

लव शायरी

Related Post

कह देना चाँद उनसे वो हमें बेवफ़ा न समझे,आँखों से दूर हैं मगर दिल से जुदा न समझे,भरा है दिल मोहब्बत से मगर मजबूर रहते हैं,मोहब्बत कम न कर देना कि इतनी दूर रहते हैं।...

कभी क़रीब तो कभी( Admin द्वारा दिनाँक 22-08-2015 को प्रस्तुत )कभी क़रीब तो कभी दूर हो के रोते हैं,मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं। - लव शायरी

हमारे आँसू पोंछ कर वो मुस्कुराते हैं,इसी अदा से वो मेरे दिल को चुराते हैं,हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को,बस इसी उम्मीद में खुद को रुलाते हैं। लव शायरी

बदलना आता नहीं हमें मौसम की तरह,हर इक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं,ना तुम समझ सकोगे जिसे क़यामत तक,कसम तुम्हारी तुम्हें इतना प्यार करते हैं। - लव शायरी

ख्वाहिश मिलने की शायरी( प्रीत द्वारा दिनाँक 16-12-2015 को प्रस्तुत )ख्वाहिश तो थी मिलने की...पर कभी कोशिश नहीं की,सोचा कि जब खुदा माना है उसको..तो बिन देखे ही पूजेंगे । - लव शायरी

हाथ उनका छू जाये( एडमिन द्वारा दिनाँक 08-06-2016 को प्रस्तुत )हमारे आँसू पोंछ कर वो मुस्कुराते हैं,इसी अदा से वो मेरे दिल को चुराते हैं,हाथ उनका छू जाये हमारे चेहरे को,बस इसी उम्मीद में खुद...

leaf-right
leaf-right