वतन की मोहब्बत – देशभक्ति शायरी

फना होने की इज़ाजत ली नहीं जाती,
ये वतन की मोहब्बत है जनाबपूछ के की नहीं जाती।

- देशभक्ति शायरी

Related Post

जहाँ पक्षपात के फैले जाल होते हैं,वहाँ हुनरमंदों के सपने बेहाल होते हैं,वो मुल्क़ कभी तरक्की नहीं कर सकता,जहाँ के वज़ीर ही दलाल होते हैं। देशभक्ति शायरी

दिया उनके नाम का( एडमिन द्वारा दिनाँक 16-02-2018 को प्रस्तुत )एक दिया उनके भी नाम कारख लो पूजा की थाली में,जिनकी सांसे थम गई हैंभारत माँ की रखवाली में। - देशभक्ति शायरी

वतन की मोहब्बत( एडमिन द्वारा दिनाँक 28-12-2018 को प्रस्तुत )फना होने की इज़ाजत ली नहीं जाती,ये वतन की मोहब्बत है जनाबपूछ के की नहीं जाती। - देशभक्ति शायरी

बच्चे बच्चे के दिल में कोई अरमान निकलेगा,किसी के रहीम तो किसी के राम निकलेगा,मगर उनके दिल को चीर के देखा जाए, तो उसमें हमारा प्यारा हिन्दुस्तान निकलेगा। देशभक्ति शायरी

जश्न आज़ादी का( एडमिन द्वारा दिनाँक 13-08-2018 को प्रस्तुत )जश्न आज़ादी का मुबारक हो देश वालों को,फंदे से मोहब्बत थी वतन के मतवालो को। - देशभक्ति शायरी

दोस्तों - एक सैनिक ने क्या खूब कहा है - देशभक्ति शायरी

leaf-right
leaf-right