विकल्प बहुत मिलेंगे -प्रेरक शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

विकल्प बहुत मिलेंगे,मार्ग भटकाने के लिए।संकल्प एक ही रखना,मंजिल तक जाने के लिए।

प्रेरक शायरी

Related Post

समर में घाव खाता है उसी का मान होता है,छिपा उस वेदना में अमर बलिदान होता है,सृजन में चोट खाता है छेनी और हथौड़ी का,वही पाषाण मंदिर में कहीं भगवान होता है। प्रेरक शायरी

सोच को अपनी ले जाओ उस शिखर पर,ताकि उसके आगे सितारे भी झुक जाएं,ना बनाओ अपने सफर को किसी किश्ती का मोहताज,चलो इस शान से कि तूफान भी रुक जाय। - प्रेरक शायरी

कड़ी धूप में( एडमिन द्वारा दिनाँक 27-03-2019 को प्रस्तुत )कड़ी धूप में चलता हूँ इस यकीन के साथ,मैं जलूँगा तो मेरे घर में उजाला होगा। - प्रेरक शायरी

पूरा आसमान चाहिए( एडमिन द्वारा दिनाँक 05-07-2019 को प्रस्तुत )मंजिल पर सफलता का निशान चाहिए,होंठों पे खिलती हुई मुस्कान चाहिए,बहलने वाले नहीं हम छोटे से टुकड़े से,हमें तो पूरा का पूरा आसमान चाहिए। - प्रेरक...

जो तूफानों से( माही सिंह द्वारा दिनाँक 19-12-2018 को प्रस्तुत )मुस्कुराना मेरे दुखों पर छोड़ दे ऐ ज़माने,मैं बुजदिल नहीं हूँ जो तूफानों से डर जाऊं,मौत लिखी है किस्मत में तो लड़कर मरूंगा,इतना कायर नहीं...

लग गयी आग जमाने में तो बचा क्या है,अगर बच गया मैं तो फिर जला क्या है,मेहनत से ही यहाँ सबकुछ मिलता है दोस्तो,इन हाथों की लकीरों में रखा क्या है। - प्रेरक शायरी

leaf-right
leaf-right