वक़्त नहीं दिया -दो लाइन शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

कितना चालाक है वो यार-ए-सितमगर देखोउस ने तोहफ़े में घड़ी दी है मगर वक़्त नहीं।

दो लाइन शायरी

Related Post

तेरी तारीफ में कुछ लफ्ज़( एडमिन द्वारा दिनाँक 04-02-2015 को प्रस्तुत )तेरी तारीफ में कुछ लफ्ज़ कम पड़ गए,वरना हम भी किसी ग़ालिब से कम नहीं। - दो लाइन शायरी

शौक-ए-सफ़र कहाँ से कहाँ ले गया हमें,हम जिस को छोड़ आये हैं मंजिल वही तो थी। दो लाइन शायरी

मेरा वक़्त बोला मेरी हालत को देख कर,मैं तो गुजर रहा हूँ तू भी गुजर क्यों नहीं जाता।-------------------------------------- जागना भी कबूल हैं तेरी यादों में रात भर,तेरे एहसासों में जो सुकून है वो नींद में...

उम्मीद ना कर इस दुनिया में हमदर्दी की,बड़े प्यार से जख्म देते हैं शिद्दत से चाहने वाले। दो लाइन शायरी

कई आँखों में रहती है कई बांहें बदलती है,मुहब्बत भी सियासत की तरह राहें बदलती है। दो लाइन शायरी

एक तुम ही न मिल सके वरना - मिलने वाले तो बिछड़ बिछड़ के मिले। दो लाइन शायरी

leaf-right
leaf-right