सब कुछ हमें खबर -दो लाइन शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

सब कुछ हमें खबर है, नसीहत नाम दीजिए,क्या होंगे हम खराब, ज़माना खराब है।

दो लाइन शायरी

Related Post

वो सुना रहे थे अपनी वफाओ के किस्से,हम पर नज़र पड़ी तो खामोश हो गए । - दो लाइन शायरी

यूँ चले जाते हैंअपनी ही महफ़िल से रुखसत होकरयूँ दिल को लगाकरजलाना कोई उनसे सीखे। दो लाइन शायरी

बात वो कहिए कि जिस बात के सौ पहलू हों,कोई पहलू तो रहे बात बदलने के लिए। - दो लाइन शायरी

फिर वही दिल की गुज़ारिश,फिर वही उनका ग़ुरूर,फिर वही उनकी शरारत,फिर वही मेरा कुसूर ।। - दो लाइन शायरी

उसको चाहा तो मोहब्बत( एडमिन द्वारा दिनाँक 04-02-2015 को प्रस्तुत )उसको चाहा तो मोहब्बत की तकलीफ नजर आई ।वरना इस मोहब्बत की बस तारीफ़ सुना करते थे ।। - दो लाइन शायरी

तलब की राह में पाने से पहले खोना पड़ता है,बड़े सौदे नज़र में हो तो छोटा होना पड़ता है। दो लाइन शायरी

leaf-right
leaf-right