हर एक चेहरे पर -हिंदी उर्दू ग़ज़ल

  • By Admin

  • October 31, 2021

हर एक चेहरे पर मुस्कान मत खोजो,किसी के नसीब का अंजाम मत खोजो।

हिंदी उर्दू ग़ज़ल

Related Post

इन फूल से नाजु़क होंठों सेगैरों की शिकायत ठीक नहीं,बदनाम करें दिल वालों को येइनकी ये शरारत ठीक नहीं। - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

वो हर रोज गुजरकर तेरी गली से जाना याद आता है,खुदा ना खास्ता वो तेरा मिल जाना याद आता है। - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

ये हक़ीक़त है कि होता है असर बातों में,तुम भी खुल जाओगे दो-चार मुलाकातों में, - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

तरकीब-ए-मुहब्बत पर( संजीत पाराशर द्वारा दिनाँक 13-09-2017 को प्रस्तुत )ना गौर कर मेरे तरकीब-ए-मुहब्बत पर,काबिल-ए-गौर हैं मेरी तहरीरें मुहब्बत पर।यूं तो इश्क दो दिलों के हिफाजत का मसला है,पर हो रकाबत, चलती है शमशीरें मुहब्बत...

उसे चांदनी कहेंगे( एडमिन द्वारा दिनाँक 24-06-2016 को प्रस्तुत )कभी दोस्ती कहेंगे कभी बेरुख़ी कहेंगे,जो मिलेगा कोई तुझसा उसे ज़िन्दगी कहेंगे।तेरा देखना है जादू तेरी गुफ़्तगू है खुशबू,जो तेरी तरह चमके उसे रोशनी कहेंगे।नए रास्ते...

मंज़िलों तक मंज़िलों की आरज़ू रह जाएगी,कारवाँ थक जाएँ फिर भी जुस्तुजू रह जाएगी। - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

leaf-right
leaf-right