हर तमन्ना हर एहसास -दिल शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

तू ही बता दिल कि तुझे समझाऊं कैसे,जिसे चाहता है तू उसे नज़दीक लाऊँ कैसे,यूँ तो हर तमन्ना हर एहसास है वो मेरा,मगर उसको ये एहसास दिलाऊं कैसे।

दिल शायरी

Related Post

मुझे नही पता कि ये बिगड़ गया या सुधर गया,बस अब ये दिल किसी से मोहब्बत नही करता। - दिल शायरी

दिल वो है जो( एडमिन द्वारा दिनाँक 05-07-2016 को प्रस्तुत )दिल वो है जो फ़रियाद से भरा रहता है हर वक़्त,हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते।~ अहमद फ़राज़ - दिल शायरी

सो जा ऐ दिल आज धुंध बहुत है... तेरे शहर मेंअपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं। - दिल शायरी

वो दिल लेकर हमें बेदिल ना समझें उनसे कह देना,जो हैं मारे हुए नज़रों के उनकी हर नज़र दिल है। - दिल शायरी

ये हैरत-ए-दिल( एडमिन द्वारा दिनाँक 25-12-2017 को प्रस्तुत )आँखों से लड़े गेसु-ए-खमदार से उलझे,ये हैरत-ए-दिल रोज ही दो-चार से उलझे। - दिल शायरी

बड़ी आसानी से दिल लगाए जाते हैं,पर बड़ी मुश्किल से वादे निभाए जाते हैं,लेकर जाती है मोहब्बत उन राहों पर,जहां पर दिये नहीं दिल जलाए जाते हैं। दिल शायरी

leaf-right
leaf-right