होने लगीं दुआएं मुकम्मल – लव शायरी

होने लगीं दुआएं मुकम्मल मेरी,
आदत हुईं हैं मेरी अदाएं तेरी,
आँखों ही आँखों से वो दिल के पास होने लगे,
जो थे कल तक अनजाने अब ख़ास होने लगे।-अमिताभ रंजन

- लव शायरी

Related Post

सिर्फ ख्वाब नहीं एहसास हो तुम,मेरी किसी दुआ का जवाब हो तुम,मालूम नहीं दूँ क्या नाम तुम्हें अपने जहां में,मेरे लिए तो सारा जहां हो तुम।-अंकित लव शायरी

गुलाब के फूल को हम कमल बना देते,आपकी एक अदा पर कई गजल बना देते,आप ही हम पर मरती नहीं - वरनाआपके घर के सामने ताजमहल बना देते। लव शायरी

ऐ सनम मैं तेरे लिए बदनाम हो जाऊं,तू अपनी ओर खींचे वो लगाम हो जाऊं,किसी और मंजिल की चाह नहीं मुझको,सिर्फ तेरी ही गलियों में गुमनाम हो जाऊं। - लव शायरी

चाँद को अपनी निगाहों में उतारो तो सही,हम चले आयेंगे दिल से पुकारो तो सही,दिल की दहलीज मोहब्बत से सजा रखी है,थोड़ा सा वक़्त हमारे साथ गुजारो तो सही। - लव शायरी

महसूस की तेरी जरूरत( एडमिन द्वारा दिनाँक 05-10-2019 को प्रस्तुत )ऐ दोस्त हमने तर्क-ए-मोहब्बत के बावजूद,महसूस की है तेरी जरूरत कभी-कभी।~ नासिर काज़मी - लव शायरी

होने लगीं दुआएं मुकम्मल( अमिताभ रंजन द्वारा दिनाँक 22-01-2019 को प्रस्तुत )होने लगीं दुआएं मुकम्मल मेरी,आदत हुईं हैं मेरी अदाएं तेरी,आँखों ही आँखों से वो दिल के पास होने लगे,जो थे कल तक अनजाने अब...

leaf-right
leaf-right