हौंसलों की उड़ानें -प्रेरक शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

सपनों की है एक दुनियाहौंसलों की उड़ानें हैं।

प्रेरक शायरी

Related Post

सोच को बदलो सितारे बदल जायेंगे,नजर को बदलो नज़ारे बदल जायेंगे,कश्तियाँ बदलने से कुछ नहीं होता,दिशाओं को बदलो किनारे बदल जायेंगे। प्रेरक शायरी

विकल्प बहुत मिलेंगे( अनुभव माहेश्वरी द्वारा दिनाँक 30-05-2017 को प्रस्तुत )विकल्प बहुत मिलेंगे,मार्ग भटकाने के लिए।संकल्प एक ही रखना,मंजिल तक जाने के लिए। - प्रेरक शायरी

बेहतर से बेहतर की तलाश करो,मिल जाए नदी तो समंदर की तलाश करो,टूट जाते हैं शीशे पत्थरों की चोट से,तोड़ दे पत्थर ऐसे शीशे की तलाश करो। प्रेरक शायरी

कर्म करो तो फल मिलता है,आज नहीं तो कल मिलता है,जितना गहरा अधिक कुआँ हो,उतना मीठा जल मिलता है। - प्रेरक शायरी

मुसीबत के साये में मैं हँसता-हँसाता हूँ,ग़मों से उलझ कर भी मैं मुस्कराता हूँ,हाथों में मुकद्दर की लकीरें है नहीं लेकिन,मैं तो अपना मुकद्दर खुद बनाता हूँ। - प्रेरक शायरी

समर में घाव खाता है उसी का मान होता है,छिपा उस वेदना में अमर बलिदान होता है,सृजन में चोट खाता है छेनी और हथौड़ी का,वही पाषाण मंदिर में कहीं भगवान होता है। - प्रेरक शायरी

leaf-right
leaf-right