ज़िंदगी बन के रहो – लव शायरी

ऐ काश कि कोई ऐसा वक़्त भी आये,
तू मेरे करीब... हमसफ़र हमख्याल हो,
मेरी जुस्तजू बन के रहे हो हर कदम,
अब मेरे संग मेरी ज़िंदगी बन के रहो।~आस्था पंडित

- लव शायरी

Related Post

सच्ची मोहब्बत मिलना भी तकदीर होती है,बहुत कम लोगों के हाथों में ये लकीर होती है। लव शायरी

दिल से कभी मुझको सदा दे करके तो देखो,यह रस्म-ए-मोहब्बत अदा करके तो देखो,रह जायेगी तुम्हारी हर एक बात अधूरी,तुम खुद को कभी मुझसे जुदा करके तो देखो। लव शायरी

अपनी मोहब्बत पे इतना भरोसा तो है मुझे,मेरी वफायें तुझे किसी और का होने न देंगी। - लव शायरी

मुझे मिले क्यों नहीं( विकास सिंह जादों द्वारा दिनाँक 15-06-2017 को प्रस्तुत )अगर आप अजनबी थे तो लगे क्यों नहीं,और अगर मेरे थे तो मुझे मिले क्यों नहीं। - लव शायरी

आपको पाने के लिये( मनीष कुमार सिंह द्वारा दिनाँक 09-05-2017 को प्रस्तुत )माना कि तुम जीते हो ज़माने के लिये,एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,दिल की क्या औकात आपके सामने,हम तो जान भी...

आँख तो प्यार में दिल की ज़ुबान होती है,सच्ची चाहत तो सदा बे-ज़ुबान होती है,प्यार में दर्द भी मिले तो क्या घबराना,सुना है दर्द से ही चाहत और जवान होती है। - लव शायरी

leaf-right
leaf-right