2 Line Hindi Shayari Nikali Thi Bina Nakab – 2 Line Shayari

निकली थी बिना नकाब आज वो घर से
मौसम का दिल मचला लोगोँ ने भूकम्प कह दिया


अगर तुम समझ पाते मेरी चाहत की इन्तहा
तो हम तुमसे नही तुम हमसे मोहब्बत करते


अमीरों के लिए बेशक तमाशा है ये जलजला,
गरीब के सर पे तो आसमान टुटा होगा.


नफरत ना करना पगली हमे बुरा लगेगा. . . .
बस प्यार से कह देना अब तेरी जरुरत नही है. .


कुछ इसलिये भी ख्वाइशो को मार देता हूँ
माँ कहती है घर की जिम्मेदारी है तुझ पर


नफरत ना करना पगली हमे बुरा लगेगा. . . .
बस प्यार से कह देना अब तेरी जरुरत नही है. .


जो मेरे बुरे वक्त में मेरे साथ है
मे उन्हें वादा करती हूँ मेरा अच्छा वक्त सिर्फ उनके लिए होगा


ये जो छोटे होते है ना दुकानों पर होटलों पर और वर्कशॉप पर
दरअसल ये बच्चे अपने घर के बड़े होते है


कुछ लोग आए थे मेरा दुख बाँटने
मैं जब खुश हुआ तो खफा होकर चल दिये


मोत से तो दुनिया मरती हैं
आशीक तो बस प्यार से ही मर जाता हैं


दिल टूटने पर भी जो शख्स आपसे शिकायत तक न कर सके…
उस शख्स से ज्यादा मोहब्बत आपको कोई और नही कर सकता

- 2 Line Shayari

Related Post

एक दाना मोहब्बत का क्या बोया मैंने, सारी फसल ही दर्द की काटनी पड़ी मुझे। परदा तो होश वालों से किया जाता है हुज़ूर, तुम बे-नक़ाब चले आओ हम तो नशे में हैं। अंजान अगर...

मेरी हर बात को उल्टा वो समझ लेते हैं, अब के पूछा तो कह दूंगा कि हाल अच्छा है.. खामोशियाँ में शोर को सुना है मैंने, ये ग़ज़ल गुंगुनायेगी रात के साये में । मिला...

दोहरे चरित्र में नहीं जी पाता हूँ, इसलिए कई बार अकेला नजर आता हूँ। दरख्तों से ताल्लुक का, हुनर सीख ले इंसान, जड़ों में ज़ख्म लगते हैं, टहनियाँ सूख जाती हैं। तुम्हारा दबदबा लोगो यहाँ...

मेरी कब्र के पास Wi-Fi जरूर लगाना, क्योंकि मेरे दोस्त.. इतने कमीने है कि Wi-Fi यूज करने के लिए, जरूर मेरे पास आएगे। तेरी कमर पर हाथ रक्खा था.. नियत का फिसल कर नीचे सरकना...

जशन आज़ादी का मुबारक हो देश वालो को, फंदे से मोहब्बत थी हम वतन के मतवालो को…

मैं कड़ी धुप में चलता हु इस यकींन के साथ, मैं जलूँगा तो मेरे घर में उजाले होंगे.!! इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई.. हम न सोए रात थक कर सो गई. लफ़्ज़ों से...

leaf-right
leaf-right