2 Line SHayari Bas Tumhe Paane Ki Tamanna – 2 Line Shayari

बस तुम्हेँ पाने की तमन्ना नहीँ रही..
मोहब्बत तो आज भी तुमसे बेशुमार करतेँ हैँ.!!


इन्सान सब कुछ कॉपी कर सकता हैं,,,
लेकिन किस्मत और नसीब नही..


कभी रजामंदी, तो कभी बगावत है इश्क..
मोहब्बत राधा की है, तो मीरा की इबादत है इश्क..!! ?


नहीं मांगता ऐ खुदा कि,जिंदगी सौ साल की दे..
दे भले चंद लम्हों की, लेकिन कमाल की दे..!!! ?


कोई ? माल में खुश है कोई सिर्फ ? दाल में खुश है
खुशनसीब है वो लोग.. जो हर हाल में खुश है..!! ?


किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
अल्फ़ाज़ से भरपूर मगर ख़ामोश..!!

- 2 Line Shayari

Related Post

उससे मोहब्बत और भी बढ़ गयी, जबसे पता चला है कि हमारा साथ हमेशा नहीं रहेगा। इबादतखानो में क्या ढूंढते हो मुझे, मैं वहाँ भी हूँ, जहाँ तुम गुनाह करते हो। ये कभी मत कहना...

मैंने तो सुना था सब्र का फल मीठा होता है, सब्र तो बहुत कर लिया तुम क्यूँ नही मिले। अपनों की भीड़ में भी सभी पराए मिलते हैं, तेरे शहर में सभी तन्हाई के सताए...

Aankhon mein dekhi jati hain pyar ki gehraiyan, shabdon mein to chhup jate hain bahut s tanhaiyan! आँखों में देखी जाती हैं प्यार की गहराईयाँ, शब्दों में तो छुप जाती हैं बहुत सी तन्हाईयाँ! ??...

ज़ालिम ने दिल उस वक़्त तोडा, जब हम उसके गुलाम हो गए। बहुत मुश्किल है बंजारा मिजाजी, सलीका चाहिये जनाब आवारगी में। सच ये हे बेकार हमें ग़म होता हे, जो चाहा था दुनिया में...

सुकून की बातमत कर ऐ दोस्त.. बचपन वाला ‘इतवार’ जाने क्यूँ अब नहीं आता। मैंने कहा बहुत प्यार आता है तुम पर.. वो मुस्कुरा कर बोले और तुम्हे आता ही क्या है। चेहरा बता रहा...

ज़र्रा ज़र्रा बिखर गया तेरी याद में, कतरा कतरा ही सही दर्द में मोहलत दे दे। किसी टूटे हुए मकान की तरह हो गया है ये दिल, कोई रहता भी नहीं और कमबख्त बिकता भी...

leaf-right
leaf-right