2 Line Shayari Chup Chap Chal Rahe The – 2 Line Shayari

चुपचाप चल रहे थे.. हम अपनी मंजिल की तरफ..
फिर रस्ते में एक ठेका पड़ा.. और हम गुमराह हो गए।


ऐ जीन्दगी जा ढुंड॒ कोई खो गया है मुझ से.
अगर वो ना मिला तो सुन तेरी भी जरुरत नही मुझे.


कुछ दूर हमारे साथ चलो, हम दिल की कहानी कह देंगे,
समझे ना जिसे तुम आखो से, वो बात जुबानी कह देंगे ।


कितनी ही खूबसूरत क्यों न हो तुम..
पर मैं जानता हूँ.. असली निखार मेरी तारीफ से ही आता है..


होने वाले ख़ुद ही अपने हो जाते हैं..
किसी को कहकर, अपना बनाया नही जाता..!!


नक़ाब क्या छुपाएगा शबाब-ए-हुस्न को,
निगाह-ए-इश्क तो पत्थर भी चीर देती है..


ज़िन्दगी जोकर सी निकली
कोई अपना भी नहीं.. कोई पराया भी नहीं


मेरी आँखों में बहने वाला ये आवारा सा आसूँ
पूछ रहा है.. पलकों से तेरी बेवफाई की वजह..


दम तोड़ जाती है हर शिकायत लबों पे आकर,
जब मासूमियत से वो कहती है मैंने क्या किया है


अगर तुम्हें यकीं नहीं, तो कहने को कुछ नहीं मेरे पास,
अगर तुम्हें यकीं है, तो मुझे कुछ कहने की जरूरत नही !

- 2 Line Shayari

Related Post

मैंने तो देखा था बस एक नजर के खातिर, क्या खबर थी की रग-रग में समां जाओगे तुम। ? मेरे इश्क़ के तरीके बेहद जुदा हैं.. औरों से मुझे तन्हा होने पर भी इश्क़ करना...

क्या नाम दूँ मैं अपनी मोहब्बत को.. कि ये तेरा सिवा किसी और से होती ही नहीं..!! ‪ कौन कहता है संवरने से बढ़ती है खूबसूरती… दिलों में चाहत हो तो चेहरे यूँ ही निखर...

दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी, मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ। बेवक़्त, बेवजह, बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ, आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ। खोटे...

Tujhe kitna Kaha Tha ki Mujhe Apna Na Bana, Ab Muje Chor Ke Duniya Mein Tamasha Na Bana. Le Lo Wapas Wo Aansu Wo Tadap Aur Wo Yaadain Saari, Nahi Koi Jurm Hamara to Phir...

तु मुझसे मेरे गुनाहों का हिसाब ना मांग मेरे खुदा मेरी तकदीर लिखने में, कलम तो तेरी ही चली थी। यूँ ही नहीं होती हाँथ की लकीरों के आगे उँगलियाँ, रब ने भी किस्मत से...

Kisi ki kya mazal thi jo koi huame kharid sakta, Hum to khud hi bik gaye khariddar dekhke. Tohmate to lagti rahi roj nayi nayi hum pe, Magar jo sabse hasi ilzam tha woh tera...

leaf-right
leaf-right