2 Line Shayari December Kya Aaya – 2 Line Shayari

दिसम्बर क्या आया, रह गये दोनो अकेले
एक मै दुसरा वो कैलेण्डर का पेज आखरी


सपने तो बहुत आये पर, तुमसा कोई सपनों मे न आया।
फिजा मे फूल तो बहुत खिले पर, तुमसा फूल न मुसकुराया ॥


मन्जिले मुझे छोड़ गयी रास्तों ने सभाल लिया है..!!
जा जिन्दगी तेरी जरूरत नहीं मुझे हादसों ने पाल लिया है.


भूल कर भी अपने दिल की बात किसी से मत कहना,
यहाँ कागज भी जरा सी देर में अखबार बन जाता है!


चुभता तो बहुत कुछ मुझको भी है तीर की तरह..
मगर खामोश रहता हूँ, अपनी तकदीर की तरह..


ताकत की जरूरत तब होतीं हैं जब कुछ बुरा करना हों ..
वरना दुनियाँ में सब कुछ पाने के लिए प्यार ही काफ़ी हैं …!!


चाहो तो छोड़ दो.. चाहो तो निभा लो..
मोहब्बत तो हमारी है.. पर मर्जी सिर्फ तुम्हारी है..!!!


हम तो पागल है जो शायरी में ही दिल की बात कह देते है..
लोग तो गीता पे हाथ रखके भी सच नहीं बोलते !!


ना किया कर अपने दर्द को शायरी में ब्यान ये नादान दिल,
कुछ लोग टुट जाते हैं इसे अपनी दास्तान समझकर…


तेरी यादो को पसन्द आ गई है मेरी आँखों की नमी,
हँसना भी चाहूँ तो रूला देती है तेरी कमी…!!

#Priya

- 2 Line Shayari

Related Post

रोज़ मिट्टी में कहां जान पड़ा करती है, इश्क सदियों में कोई ताजमहल देता है। चिराग कैसे अपनी मजबूरियाँ बयाँ करे, हवा जरूरी भी और डर भी उसी से है। बिछड़ कर फिर मिलेंगे यकीन...

निकली थी बिना नकाब आज वो घर से मौसम का दिल मचला लोगोँ ने भूकम्प कह दिया अगर तुम समझ पाते मेरी चाहत की इन्तहा तो हम तुमसे नही तुम हमसे मोहब्बत करते अमीरों के...

जिन्दगी की राहों में मुस्कराते रहो हमेशा, उदास दिलों को हमदर्द तो मिलते हैं, हमसफ़र नहीं !! ना प्यार कम हुआ है ना ही प्यार का अहेसास, बस उसके बिना जिन्दगी काटने की आदत हो...

बिक रहे हैं ताज महल सड़क-चौराहों पर आज भी.. मोहब्बत साबित करने के लिए बादशाह होना जरुरी नहीं..!! डूबे हुओं को हमने बिठाया था अपनी कश्ती में यारो, और फिर कश्ती का बोझ कहकर, हमें...

Sabne kaha, beatar socho to behtar hoga, Maine socha, usko sochun, usse behtar kya hoga. ? सबने कहा, बेहतर सोचो तो बेहतर होगा, मैंने सोचा, उसको सोचूँ, उससे बेहतर क्या होगा। ? - 2 Line...

जरूरतें भी जरूरी हैं, जीने के लिये लेकिन, तुझसे जरूरी तो, जिदगी भी नही। सारे घर के उजाले का जिम्मा था मुझ पर, जब बुझने लगा चिराग तो जलना पड़ा मुझे। सलूक जो चाहो कर...

leaf-right
leaf-right