2 Line Shayari Jism Uska Bhi Mitti Ka Hai – 2 Line Shayari

जिस्म उसका भी मिट्टी का है मेरी तरह ए खुदा
फिर क्यू सिर्फ मेरा ही दिल तडफता है उस के लिये।

चुभता तो बहुत कुछ मुझको भी है तीर की तरह,
मगर ख़ामोश रहेता हूँ अपनी तक़दीर की तरह।

ऊपर वाले ने कितने लोगो की तक़दीर सवारी है,
काश वो एक बार मुझे भी कह दे के आज तेरी बारी है।

चुभता तो बहुत कुछ मुझको भी है तीर की तरह,
मगर ख़ामोश रहेता हूँ अपनी तक़दीर की तरह।

झूठ बोलते थे कितना, फिर भी सच्चे थे हम
ये उन दिनों की बात है, जब बच्चे थे हम।

ज़ख़्म दे कर ना पूछा करो दर्द की शिद्दत,
दर्द तो दर्द होता हैं थोड़ा क्या, ज्यादा क्या।

तकलीफें तो हज़ारों हैं इस ज़माने में,
बस कोई अपना नज़र अंदाज़ करे तो बर्दाश्त नहीं होता।

अच्छा लगता हैं तेरा नाम मेरे नाम के साथ,
जैसे कोई खूबसूरत सुबह जुड़ी हो, किसी हसीन शाम के साथ।

अपनी ईन नशीली निगाहों को जरा
झुका दीजिए जनाब, मेरे मजहब में नशा हराम है।

आज किसी की दुआ की कमी है, तभी तो हमारी आँखों में नमी है,
कोई तो है जो भूल गया हमें, पर हमारे दिल में उसकी जगह वही है।

- 2 Line Shayari

Related Post

जिंदगी अजनबी मोड़ पर ले आई है, तुम चुप हो मुझ से, और मैँ चुप हूँ सबसे। ? यूँ ही बे-सबब नही बनते भँवर दरिया में, ज़ख्म कोई तो तेरी रूह में उतरा होगा। ना...

Ye dil bura hi sahi par sare bazar to na kaho, Aakhir tumne bhi isme kuchh din gujare hai. ? ये दिल बुरा ही सही पर सरे बाज़ार तो ना कहो, आखिर तुमने भी इसमें...

अजीब खेल है ये मोहब्बत का, किसी को हम न मिले, कोई हमें ना मिला। उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी, उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी। तमाम नींदें गिरवी हैं हमारी...

तेरा चेहरा हैं जब से मेरी आँखों मैं, लोग मेरी आँखों से जलते हैं..। सायरी.. तो अपनी जान है और इसे खुद से लिखना हमारी पहचान।। ऐ मोहब्बत तुझे पाने की कोई राह नहीं, शायद...

खटखटाए न कोई दरवाजा, बाद मुद्दत मैं खुद में आया हूँ, एक ही शख़्स मेरा अपना है, मैं उसी शख़्स से पराया हूँ। देखी जो नब्ज मेरी, हँस कर बोला वो हकीम, जा जमा ले...

अजीब सी बस्ती में ठिकाना है मेरा जहाँ लोग मिलते कम झांकते ज़्यादा है। बात मुक्कदर पे आ के रुकी है वर्ना, कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में। अरे कितना झुठ बोलते...

leaf-right
leaf-right