2 Line Shayari Khatkhatay Na Koi – 2 Line Shayari

खटखटाए न कोई दरवाजा, बाद मुद्दत मैं खुद में आया हूँ,
एक ही शख़्स मेरा अपना है, मैं उसी शख़्स से पराया हूँ।


देखी जो नब्ज मेरी, हँस कर बोला वो हकीम,
जा जमा ले महफिल पुराने दोस्तों के साथ तेरे हर मर्ज की दवा वही है।


ऐ दिल चल छोड अब ये पहरे,
ये दुनिया है झूठी यहाँ लोग हैं लुटेरे।


हुस्न वालों को क्या जरूरत है संवरने की,
वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं।


तूने ही लगा दिया इलज़ाम-ए-बेवफाई,
मेरे पास तो चश्मदीद गवाह भी तु ही थी।


काश तेरा घर मेरे घर के बराबर होता,
तू न आती तेरी आवाज तो आती रहती।


कभी जो मुझे हक मिला अपनी तकदीर लिखने का..
कसम खुदा की तेरा नाम लिखुंगी और कलम तोड दुंगी।


मौजूद थी अभी उदासी रात की,
बहला ही था दिल ज़रा सा के फ़िर भोर आ गयी।


ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस इतनी सी है अब मेरी,
कि साथ तेरा हो और ज़िंदगी कभी खत्म न हो।


करम ही करना है तुझको तो ये करम कर दे,
मेरे खुदा तू मेरी ख्वाहिशों को कम कर दे।

- 2 Line Shayari

Related Post

Ye dil bura hi sahi par sare bazar to na kaho, Aakhir tumne bhi isme kuchh din gujare hai. ? ये दिल बुरा ही सही पर सरे बाज़ार तो ना कहो, आखिर तुमने भी इसमें...

मैं कोई छोटी सी कहानी नहीं थी, पर तुम ने पन्ने ही जल्दी पलट दिए। ? कितने कमाल की होती है ना दोस्ती, वजन होता है लेकिन बोझ नही होती। ? उम्र बीतती रही जिंदगी...

दो रास्ते जींदगी के दोस्ती और प्यार, एक जाम से भरा दुसरा इल्जाम से। ज़िन्दगी ने मर्ज़ का क्या खूब इलाज सुझाया, वक्त को दवा बताया ख्वाहिशों से परहेज़ बताया। थोङा ऐतबार करो मुझ पर...

क्या बताये अपनी चाहतों का आलम, वो पल ही याद नहीं.. जिस पल तुझे हम भूले हों। मोहब्बत की दास्ताँ लिखने का हुनर तो आ गया पर महबूब को मनाने में.. अब भी नाकाम हूँ...

तय है बदलना, हर चीज बदलती है इस जहां में, किसी का दिल बदल गया, किसी के दिन बदल गए। यूं तो किसी चीज के मोहताज नही हम, बस एक तेरी आदत सी हो गयी...

क्या लिखूँ, अपनी जिंदगी के बारे में दोस्तों.. वो लोग ही बिछड़ गए, जो जिंदगी हुआ करते थे। रिश्ता दिल से होना चाहिए, शब्दों से नहीं, नाराजगी शब्दों में होनी चाहिए, दिल में नहीं। तेरा...

leaf-right
leaf-right