2 Line Shayari Mohabbat Na Sahi – 2 Line Shayari

मोहब्बत न सही मुकदमा कर दे मुज पर..
कम से कम तारीख दर तारीख मुलाकात तो होगी।


मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते हो क्यों,
मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो।


जिन के आंगन में अमीरी का शजर लगता है,
उन का हर एब भी जमानें को हुनर लगता है।


तजुर्बा कहता है मोहब्बत से किनारा कर लूँ,
और दिल कहता हैं की ये तज़ुर्बा दोबारा कर लू।


ये झूठ है के मुहब्बत किसी का दिल तोड़ती है,
लोग खुद ही टुट जाते है, मुहब्बत करते-करत।


ऊँची इमारतों से मकां मेरा घिर गया,
कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए।


गर तेरी नज़र क़त्ल करने मे माहिर है तो सुन,
हम भी मर मर के जीने मे उस्ताद हो गए है।


दिल मेरा भी कम खूबसूरत तो न था,
मगर मरने वाले हर बार सूरत पे ही मरे।


किसी की गलतियों को बेनक़ाब ना कर,
‘ईश्वर’ बैठा है, तू हिसाब ना कर।


ऐ दिल थोड़ी सी हिम्मत कर ना यार,
चल दोनों मिल कर उसे भूल जाते है।


मैं उसकी ज़िंदगी से चला जाऊं यह उसकी दुआ थी,
और उसकी हर दुआ पूरी हो, यह मेरी दुआ थी।


तुझे मुफ्त में जो मिल गए हम,
तु कदर ना करे ये तेरा हक़ बनता है।

- 2 Line Shayari

Related Post

घर में रहा था कौन कि रुखसत करे हमें, चौखट को अलविदा कहा और चल पड़े। ? सिर्फ लफ्ज़ नहीं ये दिलों की कहानी है, हमारी शायरी ही हमारे प्यार की निशानी है। पलकों पे...

ताश के पत्ते खुशनसीब है यारों, बिखरने के बाद उठाने वाला तो कोई है। ? उलझते सुलझते हुए जिंदगी के हर पल और, खुश्बू बिखेरता हुआ तेरा खुश्बुदार सा ख्याल। ? कौन कहता है आग...

मैंने तो देखा था बस एक नजर के खातिर, क्या खबर थी की रग-रग में समां जाओगे तुम। ? मेरे इश्क़ के तरीके बेहद जुदा हैं.. औरों से मुझे तन्हा होने पर भी इश्क़ करना...

तू मेरी धड़कन, तेरी रूह, तू अगर हैं, तो मैं हूँ। कुछ लौग ये सोचकर भी मेरा हाल नहीं पुँछते.. कि यै पागल दिवाना फिर कोई ‪ शायरी न सुना देँ। टहनियाँ बेचारी नाहक थरथराती...

कीमतें गिर जाती हैं अक्सर खुद की, किसी को कीमती बनाकर अपना बनाने में। अंधो के शहर में अँधा बन गया तो क्या गिला, शीशे ने पहचाना नहीं तो अपनों से क्या गिला। नाराज़ ना...

कब आ रहे हो मुलाकात के लिये, हमने चाँद रोका है एक रात के लिये। ताश के पत्ते खुशनसीब हैं यारों, बिखरने के बाद कोई उठाने वाला तो है। जरूरी नही कि हम सबको पसंद...

leaf-right
leaf-right