2 Line Shayari Sukun Ki Baat Mat Kar – 2 Line Shayari

सुकून की बातमत कर ऐ दोस्त..
बचपन वाला ‘इतवार’ जाने क्यूँ अब नहीं आता।


मैंने कहा बहुत प्यार आता है तुम पर..
वो मुस्कुरा कर बोले और तुम्हे आता ही क्या है।


चेहरा बता रहा था कि मारा है भूख ने,
सब लोग कह रहे थे कि कुछ खा के मर गया।


सिखा दी बेरुखी भी ज़ालिम ज़माने ने तुम्हें,
कि तुम जो सीख लेते हो हम पर आज़माते हो।


वो जिनके हाथ में हर वक्त छाले रहते हैं,
आबाद उन्हीं के दम पर महल वाले रहते हैं।


ना शौक दीदार का, ना फिक्र जुदाई की,
बड़े खुश नसीब हैँ वो लोग जो, मोहब्बत नहीँ करतेँ।


मोहब्बत कर सकते हो तो खुदा से करो ‘दोस्तों’
मिट्टी के खिलौनों से कभी वफ़ा नहीं मिलती


कुछ इस तरह बुनेंगे हम अपनी तकदीर के धागे
कि अच्छे अच्छो को झुकना पड़ेगा हमारे आगे।


बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो
जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो।


मेरे अन्दर कुछ टूटा है
बस दुआ करो वो दिल ना हो।

- 2 Line Shayari

Related Post

तु मुझसे मेरे गुनाहों का हिसाब ना मांग मेरे खुदा मेरी तकदीर लिखने में, कलम तो तेरी ही चली थी। यूँ ही नहीं होती हाँथ की लकीरों के आगे उँगलियाँ, रब ने भी किस्मत से...

अश्क़ बह गए आँखों से मगर इतना कह गए, फिर आएंगे तेरी आँखों में तू अपना सा लगता है। कर दे नजर-ए-करम मुझपर मैं तुझ पर एतबार कर लूँ, दीवाना हूं मैं तेरा ऐसा कि...

अक्सर दिखावे का प्यार ही शोर करता है, सच्ची मोहब्बत तो इशारों में ही सिमट जाती है। ? हम तो आदी है सह लेंगे तेरा दिया हुआ हर जख्म ऐ दोस्त, लेकिन सोचते है अगर...

कोई नहीं याद करता वफ़ा करने वालो को, मेरी मानों बेवफा हो जाओ जमाना याद रखेगा। घमण्ड से भी अक्सर खत्म हो जाते हैं, कुछ रिश्ते.. कसूर हर बार गलतियों का नहीं होता। गुलशन तो...

शाम होतीं हैं परिन्दे घर को आते हैं.. और हम तो दिवानें हैं, तेरे ख्यालों में खो जाते हैं। मैं नींद का शौक़ीन ज्यादा तो नहीं, लेकिन कुछ खवाब ना देखूं तो गुज़ारा नहीं होता।...

दो मुलाकात क्या हुई हमारी तुम्हारी, निगरानी में सारा शहर लग गया। अपने खिलाफ बाते खामोशी से सुन लो, यकीन मानो वक्त बेहतरीन जवाब देगा। वक़्त को भी हुआ है ज़रूर किसी से इश्क़, जो...

leaf-right
leaf-right