2 Line Shayari Tera Najariya – 2 Line Shayari

तेरा नजरिया मेरे नजरिये से अलग था…
शायद तूने वक्त गुजारना था और हमे सारी जिन्दगी..


वाह रे इश्क़ तेरी मासूमियत का जवाव नहीं.।।
हँसा हँसा कर करता है बर्बाद तू मासूम लोगो को.।।


Mera majhab to, ye do hatheliya batati hai
jude to pooja… khule to dua kehlati hai


ना मैं शायर हूँ ना मेरा शायरी से कोई वास्ता,
बस शौक बन गया है, तेरी यादो को बयान करना


फरिश्ते आकर उनके जिस्म पर खुशबू लगाते थे !
वो बच्चे रेल के डिब्बों में अब झाडू लगाते हैं !!


जिन्हें पता है कि अकेलापन क्या होता है, वो लोग
दूसरों के लिए हमेशा हाजिर रहते हैं..!!


तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है,
पूरी उसकी होती है जो तकदीर लेकर आता है..!!


रूठा अगर तुझसे तो इस अंदाज से रूठूंगा ,
तेरे शहर की मिट्टी भी मेरे बजूद को तरसेगी


हम लाए हैं तूफान से किश्ती निकाल के,
इस देश को रखना मेरे बच्चों सम्भाल के


जिम्मेदारियां बांध देती हैं अपना शहर न छोड़नेको..
वरना कौन तरक्की की सीढीयां चढ़ना नहीं चाहता..

#Priya

- 2 Line Shayari

Related Post

मेरा क्या हाल है तेरे बिना कभी देख तो ले, मैं जी रहा हूँ तेरा भूला हुआ वादा बनकर। कुछ को हकीकत कुछ ख्वाब करना है, बहुत से लोग है जिनका हिसाब करना है। ?...

मकड़ी जैसे मत उलझो तुम गम के ताने बाने में, तितली जैसे रंग बिखेरो हँस कर इस ज़माने में। यूँ ही रिहा नहीं हो सकेंगे जहन से तुम्हारे हम, बड़ी सिद्दत से तुम्हारे दिल में...

दर्द मीठा हो तो रुक रुक के कसक होती है, याद गहरी हो तो थम थम के क़रार आता है। भरने को तो हर ज़ख्म भर जाएगा लेकिन, कैसे भरेगी वो जगह जहाँ तेरी कमी...

जहाँ भी ज़िक्र हुआ सुकून का, वहीँ तेरी बाहोँ की तलब लग जाती हैं। ऐ जिंदगी तू खेलती बहुत है खुशियों से, हम भी इरादे के पक्के हैं मुस्कुराना नहीं छोडेंगे। मंज़र धुंधला हो सकता...

रोज़ मिट्टी में कहां जान पड़ा करती है, इश्क सदियों में कोई ताजमहल देता है। चिराग कैसे अपनी मजबूरियाँ बयाँ करे, हवा जरूरी भी और डर भी उसी से है। बिछड़ कर फिर मिलेंगे यकीन...

परवाह नहीं चाहे जमाना कितना भी खिलाफ हो, चलूँगा उसी राह पर जो सीधी और साफ हो। मेरी आवाज को महफूज कर लो.. मेरे दोस्त मेरे बाद बहुत सन्नाटा होगा.. तुम्हारी महफ़िल में। कभी शाम...

leaf-right
leaf-right