2 Line Shayari Todh Kar Jodh Lo – 2 Line Shayari

तोड़ कर जोड़ लो चाहे हर चीज़ दुनिया की..
सब की मरम्मत मुमकिन है एतबार के सिवा|


बहके बहके ही, अँदाज-ए-बयां होते है..
आप होते है तो, होश कहाँ होते है|


हँसी यूँ ही नहीं आई है इस ख़ामोश चेहरे पर,
कई ज़ख्मों को सीने में दबाकर रख दिया हमने|


मुझसे कहती है तेरे साथ रहूंगी!
बहुत प्यार करती है मुझसे मेरी उदासी !!


इतना ही गुरुर था तो मुकाबला इश्क का करती ऐ बेवफा..
हुस्न पर क्या ईतराना जिसकी ओकात ही बिस्तर तक हौ..।।


मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नही..
चमकता सूरज भी तो ढल जाता है चाँद के लिए।


सोजा दिल आज धुँध बहुत है….! तेरे शहर में..! अपने दिखते नही
और जो दिखते है ..! वो अपने नही है…!


नाराज क्यों होते हो चले जायेंगे तुम्हारी जिन्दगी से बहुत दूर,
जरा टूटे हुए दिल के टुकङे तो उठा लेने दो!


खामोश बैठे हैं तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं,
और ज़रा सा हंस लें तो लोग मुस्कुराने की वजह पूछ लेते है।


लगता है खुदा मुझे बुलाने वाला है,
रोज़ मेरी झूटी कसमे खा रही है वो|

- 2 Line Shayari

Related Post

Jab tak bika na tha to koi poochta na tha, Tune mujhe khareed ke anmol kar diya.. Main toh bik jaun tere naam pe maut ki tarah, Tu kabhi kharidar to ban, is zingadi ke...

हर रिश्ते मे सिर्फ नूर बरसेगा.. शर्त बस इतनी है कि रिश्ते में शरारतें करो साजिशें नहीं। मोहब्बत अब समझदार हो गयी है हैसियत देख कर आगे बढ़ती है। आराम से कट रही थी तो...

कौन कहता है अलग अलग रहते हैं हम और तुम, हमारी यादों के सफ़र में हमसफ़र हो तुम। कौन कहता है के तन्हाईयाँ अच्छी नहीं होती, बड़ा हसीन मौका देती है ये ख़ुद से मिलने...

तुम दूर हो या पास फर्क किसे पड़ता है, तू जँहा भी रहे तेरा दिल तो यँही रहता है..!! पहली बारिश का नशा ही कुछ अलग होता हैं, पलको को छूते ही सीधा दिल पे...

क्या नाम दूँ मैं अपनी मोहब्बत को.. कि ये तेरा सिवा किसी और से होती ही नहीं..!! ‪ कौन कहता है संवरने से बढ़ती है खूबसूरती… दिलों में चाहत हो तो चेहरे यूँ ही निखर...

Kuchh ajab haal hai inn diino tabiyat ka shahab, Khushi khushi naa lage aur gam bura na lage… Use bewafa bhi kehna mere liye gunha ki baat hai, Bewafa to usko kehte hai jo wafa...

leaf-right
leaf-right