2 Line Shayari Tum Dur Bahut Dur Ho Mujhse – 2 Line Shayari

तुम दूर..बहुत दूर हो मुझसे.. ये तो जानता हूँ मैं…
पर तुमसे करीब मेरे कोई नही है.. बस ये बात तुम याद रखना…


तुझे पाना.. तुझे खोना.. तेरी ही याद मेँ रोना
ये अगर इश्क है.. तो हम तनहा ही अच्छेँ हैँ.!!


कभी किसी के जज्बातों का मजाक ना बनाना.
ना जाने कौन सा दर्द लेकर कोई जी रहा होगा..


कुछ तो है जो बदल गया जिन्दगी में मेरी
अब आइने में चेहरा मेरा हँसता हुआ नज़र नहीं आता…


उमर बीत गई पर एक जरा सी बात समझ में नहीं आई
हो जाए जिनसे महोब्बत, वो लोग कदर क्यूं नहीं करते


यूँ तो कोई शिकायत नहीं मुझे मेरे आज से,
मगर कभी-कभी बीता हुआ कल बहुत याद आता है…


अपने हर लफ्ज़ में कहर रखते हैं हम,
रहें खामोश फिर भी असर रखते हैं हम..


बडी अजीब मुलाकातें होती थी हमारी,
वो किसी मतलब से मिलते थे और हमे तो सिर्फ मिलने से मतलब था…


अब ये न पूछना की . . ये अल्फ़ाज़ कहाँ से लाता हूँ
कुछ चुराता हूँ दर्द दूसरों के, कुछ अपना हाल सुनाता हूँ


तूफान भी आना जरुरी है जिंदगी में तब जा कर पता चलता है की
कौन हाथ छुड़ा कर भागता है और कौन हाथ पकड़ कर

- 2 Line Shayari

Related Post

Tere wajud se hain meri muqmmal kahaani, Main khokhli sip aur tu moti ruhani. ?‍? तेरे वजूद से हैं मेरी मुक़म्मल कहानी, मैं खोखली सीप और तू मोती रूहानी। ?‍? - 2 Line Shayari

गुलशन तो तू है मेरा, बहारों का मैं क्या करूँ, नैनों मैं बस गए हो तुम, नज़ारों का मैं क्या करूँ। ? तुम साथ हो तो दुनियां अपनी सी लगती है, वरना सीने मे सांसे...

मेरे साथ बैठ कर वक़्त भी रोया एक दिन बोला बन्दा तू ठीक है मैं ही ख़राब चल रहा हूँ . उम्र बीत गयी पर एक जरा सी बात समझ नही आई..!! हो जाये जिन...

खटखटाए न कोई दरवाजा, बाद मुद्दत मैं खुद में आया हूँ, एक ही शख़्स मेरा अपना है, मैं उसी शख़्स से पराया हूँ। देखी जो नब्ज मेरी, हँस कर बोला वो हकीम, जा जमा ले...

कर गया है इतना खाली वो शख्श मुझे, मेरा.. मुझसे ही मुझमे सामना नही होता। मत पूछो के मेरा कारोबार क्या है दोस्तो.. मुस्कुराहटों की छोटी सी दुकान है, नफरतों के बाज़ार में। तुमसे ही...

बिक रहे हैं ताज महल सड़क-चौराहों पर आज भी.. मोहब्बत साबित करने के लिए बादशाह होना जरुरी नहीं..!! डूबे हुओं को हमने बिठाया था अपनी कश्ती में यारो, और फिर कश्ती का बोझ कहकर, हमें...

leaf-right
leaf-right