Ansuo Ki Likhawat Ko Padh Na Sakoge – Dard Shayari

Ansuo ki likhawat ko padh na sakoge,
Gile Kagaz pe kuch likh na sakoge,
Yaad aayegi tumko hamari baate,
Khokar jab tum hume pa na sakoge.

- Dard Shayari

Related Post

Zakhmon ko daba kar seene mein reh kar khamos , Chehre par hasi lana koi badi bat nahi, Badi bat to tab hogi jab koi khud ke jakhamo ko sine me daba kar, Dusro ke...

Ab bhi taaza hain zakhm seene mein, Bin tere kya rakha hain jeene mein, Hum to zinda hain tera sath paane ko, Warna der kitni lgti hai zaher peene mein. - Dard Shayari

उसे उड़ने का शौक था.. और हमें उसके प्यार की कैद पसंद थी.. वो शौक पूरा करने उड़ गयी जो.. आखिरी सांस तक साथ देने को रजामंद थी। - Bewafa Shayari

Khuda ek bar use ye ehsas dila de, Kitna intjar hai zara use bata de, Har pal dehkte hai rasta usi ka, Na intjar karna pade mujhe aisi neend sula de. - Dard Shayari

ठोकर ना लगा मुझे पत्थर नही हूँ मैं, हैरत से ना देख कोई मंज़र नही हूँ मैं, उनकी नज़र में मेरी कदर कुछ भी नही, मगर उनसे पूछो जिन्हें हासिल नही हूँ मैं। Thokar na...

आज भीगी है पलके किसी की याद में आकाश भी सिमट गया हैं अपने आप में ओस की बूँद ऐसी गिरी है ज़मीन पर मानो चाँद भी रोया हो उनकी याद में! Aaj bhigi hai...

leaf-right
leaf-right