Bada Udas Safar Hai Hamare Sath Raho – Ghazal

बड़ा उदास सफ़र है हमारे साथ रहो,
बस एक तुम पे नज़र है हमारे साथ रहो ।
हम आज ऐसे किसी ज़िन्दगी के मोड़ पे हैं,
न कोई राह न घर है हमारे साथ रहो ।
तुम्हें ही छाँव समझकर हम आ गए हैं इधर,
तुम्हारी गोद में सर है हमारे साथ रहो ।
ये नाव दिल की अभी डूब ही न जाए कहीं
हरेक साँस भँवर है हमारे साथ रहो ।
ज़माना जिसको मुहब्बत का नाम देता रहा,
अभी अजानी डगर है हमारे साथ रहो ।
इधर चराग़ धुएँ में घिरे-घिरे हैं ‘कुँअर’
उधर ये रात का डर है हमारे साथ रहो ।
– कुँअर बेचैन

By quotesbogie

Popular Pages