Hindi Shayari Collection Kya Likhu – 2 Line Shayari

क्या लिखूँ, अपनी जिंदगी के बारे में दोस्तों..
वो लोग ही बिछड़ गए, जो जिंदगी हुआ करते थे।


रिश्ता दिल से होना चाहिए, शब्दों से नहीं,
नाराजगी शब्दों में होनी चाहिए, दिल में नहीं।


तेरा नज़रिया मेरे नज़रिये से अलग था,
शायद तुझे वक्त गुज़ारना था और मुझे जिन्दगी।


माना के सब कुछ पा लुँगा मै अपनी जिन्दगी मै,
मगर वो तेरे मैहदी लगे हाथ मेरे ना हो सकेंगे।


जिनके प्यार बिछड़े है उनका सुकून से क्या ताल्लुक़,
उनकी आँखों में नींद नही सिर्फ आंसू आया करते है।


अभी तक मौजूद हैं इस दिल पे तेरे क़दमों के निशान,
हमने तेरे बाद किसी को इस राह से गुजरने नहीं दिया।


कोई नही आऐगा मेरी जिदंगी मे तुम्हारे सिवा,
एक मौत ही है, जिसका मैं वादा नही करता।

- 2 Line Shayari

Related Post

खुद को समेट के, खुद में सिमट जाते हैं हम, एक याद उसकी आती है फिर से बिखर जाते है हम। जो दिल के आईने में हो, वही है प्यार के क़ाबिल, वरना दीवार के क़ाबिल...

हमें भी आते है अंदाज़ दिल तोड़ने के, हर दिल में ख़ुदा बसता है यही सोचकर चुप हूँ। मंजिल का नाराज होना भी जायज था, हम भी तो अजनबी राहों से दिल लगा बैठे थे।...

तु मुझसे मेरे गुनाहों का हिसाब ना मांग मेरे खुदा मेरी तकदीर लिखने में, कलम तो तेरी ही चली थी। यूँ ही नहीं होती हाँथ की लकीरों के आगे उँगलियाँ, रब ने भी किस्मत से...

Chah kar bhi poochh nahi sakte haal unka, Dar hai kahi kah na de ke ye haq tumhe kisne diya. ? चाह कर भी पूछ नहीं सकते हाल उनका, डर है कहीं कह ना दे...

ऐतबार और प्यार दो ऐसे परिंदे है, एक उड़ जाए तो दूसरा भी उड़ ही जाता है। अकड़ तोड़नी है उन मंजिलों की, जिनको अपनी ऊंचाई पर गरूर है। कैसे मुमकिन है कि भूल जाऊँ...

आज धुन्ध बहुत है मेरे शहर में, अपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं। कहो तो थोड़ा वक्त भेज दूँ, सुना है तुम्हें फुर्सत नहीं मुझसे मिलने की। हम कुछ ना कह...

leaf-right
leaf-right