Hindi Shayari Ek Gajal Maa Ke Naam – Hindi Poems Poetry

पहली बार किसी गज़ल को पढ़कर आंसू आ गए ।

शख्सियत, ए ‘लख्ते-जिगर’, कहला न सका ।
जन्नत.. के धनी पैर.. कभी सहला न सका ।

दुध, पिलाया उसने छाती से निचोड़कर,
मैं ‘निकम्मा’, कभी 1 ग्लास पानी पिला न सका ।

बुढापे का सहारा.. हूँ ‘अहसास’ दिला न सका
पेट पर सुलाने वाली को ‘मखमल, पर सुला न सका ।

वो ‘भूखी’, सो गई ‘बहू’, के ‘डर’, से एकबार मांगकर,
मैं सुकुन.. के ‘दो, निवाले उसे खिला न सका ।

नजरें उन बुढी, आंखों.. से कभी मिला न सका ।
वो दर्द, सहती रही में खटिया पर तिलमिला न सका ।

जो हर रोज ममता, के रंग पहनाती रही मुझे,
उसे दीवाली पर दो जोड़, कपडे सिला न सका ।

बिमार बिस्तर से उसे शिफा, दिला न सका ।
खर्च के डर से उसे बडे़ अस्पताल, ले जा न सका ।

माँ के बेटा कहकर दम, तौडने बाद से अब तक सोच रहा हूँ,
दवाई, इतनी भी महंगी.. न थी के मैं ला ना सका ।

Thanks Love you Mom

4more Ghazal

- Hindi Poems Poetry

Related Post

सारी बस्ती सारी बस्ती में ये जादू नज़र आए मुझको, जो दरीचा भी खुले तू नज़र आए मुझको, सदियों का रत जगा मेरी रातों में आ गया, मैं एक हसीन शख्स की बातों में आ...

सुकून सुकून भी पास है अपने, ग़मों का काफिला भी है, लबों से कुछ नहीं कैहते, मगर दिल में गिला भी है, सुनायें किसको अपना दर्द, कोई राज़दाँ तो हो.. ख़ुशी आँखों में है पर.....

Mehnat se utha hoon, mehnat ka dard jaanta hoon, aashma se jyada, zami ki kdra jaanta hoon, Lacheela ped tha jo jhel gaya aandhiya, main magroor darakhton ka hashra jaanta hoon, Chote se bada banana...

झाँक रहे है इधर उधर सब। अपने अंदर झांकें कौन? ढ़ूंढ़ रहे दुनियाँ में कमियां। अपने मन में ताके कौन? सबके भीतर दर्द छुपा है। उसको अब ललकारे कौन? दुनियाँ सुधरे सब चिल्लाते। खुद को...

~ Humsafar Mera ~ – Jab tu banke humsafar mera sath deta hai, Har mushkil safar asaan ho jata hain. – Khushnaseeb samajhta hu khud ko main, Jab koi haseen khwab poora ho jata hai....

जागती आँखों ही से सोती रहती हूँ, मैं पलकों में खाव्ब पिरोती रहती हूँ.. तेजाबी बारिश के नक्श नहीं मिटते, मैं अश्कों से आँगन धोती रहती हूँ.. मैं खुशबू की कद्र नहीं जब कर पाती,...

leaf-right
leaf-right