Hindi Shayari Mere Tootne Ki Vjhe – 2 Line Shayari

चेहरे अजनबी हो जाये तो कोई बात नही, लेकिन
रवैये अजनबी हो जाये तो बडी तकलीफ देते हैं।


मेरे टूटने की वजह मेरे जौहरी से पूछो,
उसकी ख्वाहिश थी कि मुझे थोड़ा और तराशा जाय।


बहुत थे मेरे भी इस दुनिया मेँ अपने,
फिर हुआ इश्क और हम लावारिस हो गए।


लिखी है खुदा ने मोहब्बत सबकी तक़दीर में,
हमारी बारी आई तो स्याही ही ख़त्म हो गई।


रिवाज तो यही हे दुनिया का मिल जाना और बिछड जाना,
तुम से ये कैसा रिशता है ना मिलते हो ना बिछडते हो।


तेरा ख़याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेदर्द मैं ने तुझ को भुलाया नहीं अभी।


इतना ही गरूर था तो मुकाबला इश्क़ का करती ए बेवफा,
हुस्न पर क्या इतराना जिसकी ओकात ही बिस्तर तक हो।


तेरी दुनिया का यह दस्तूर भी अजीब है ए खुदा..
मोहब्बत उनको मिलती है, जिन्हें करनी नहीं आती।


अंदाज़ बदलने लगते हैं होठों पे शरारत होती,
है, नजरों से पता चल जाता है जिस दिल में मोहब्बत होती है।


आज जिस्म मे जान है तो देखते नही हैं लोग..
जब रूह निकल जाएगी तो कफन हटाहटा कर देखेंगे लोग।


थोडा अकड के चलना सीख लो दोस्तों..
मौम जैसा दिल लेके फिरोगे, तो लोग जलाते रहेंगे और पिघलाते ही रहेंगें।


Log kehte hai ki mohabbat ek bar hoti hain,
Lekin me jab jab use dekhu mujhe har bar hoti hai.


Ek choote se sawal par itni khamoshi..
Bas itna hi toh pucha thaa.. Kabhi wafaa ki h kisi se.

- 2 Line Shayari

Related Post

मैं कड़ी धुप में चलता हु इस यकींन के साथ, मैं जलूँगा तो मेरे घर में उजाले होंगे.!! इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई.. हम न सोए रात थक कर सो गई. लफ़्ज़ों से...

तू घडी भर के लिए मेरी नज़रो के सामने आजा, एक मुद्द्त से मैंने खुद को आईने में नहीं देखा। उसे रास ही ना आया मेरा साथ वरना, मैं उसे जीते जी ख़ुदा बना देता।...

Jab tak bika na tha to koi poochta na tha, Tune mujhe khareed ke anmol kar diya.. Main toh bik jaun tere naam pe maut ki tarah, Tu kabhi kharidar to ban, is zingadi ke...

ना पेशी होगी.. ना गवाह होगा, जो भी उलझेगा मोहब्बत से.. वो सिर्फ तबाह होगा। कुछ शिकायतें बनी रहें रिश्तों में तो अच्छा है, चाशनी मे डूबे रिश्ते अक्सर वफादार नहीं होते। हादसे कुछ दिल...

तेरी यादें हर रोज़ आ जाती है मेरे पास, लगता है तुमने बेवफ़ाई नही सिखाई इनको..!! हमे हारने का शोख नहीँ, बस हम खेलते हे उस अंदाज से की लोग मैदान छोड देते हैं..!! कुछ...

आज धुन्ध बहुत है मेरे शहर में, अपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं। कहो तो थोड़ा वक्त भेज दूँ, सुना है तुम्हें फुर्सत नहीं मुझसे मिलने की। हम कुछ ना कह...

leaf-right
leaf-right