Hindi Shayari Ruh Ke Rishto Ki – Hindi Shayari

रूह के रिश्तों की ये गहराइयाँ तो देखिये,
चोट लगती है हमें और चिल्लाती है माँ,
चाहे हम खुशियों में माँ को भूल जायें दोस्तों,
जब मुसीबत सर पे आ जाए, तो याद आती है माँ।

- Hindi Shayari

Related Post

Koi hain jiska ess dil ko intzaar hain, Khayalo mein bas usi ka khayal hain, Khushyaan main saari us par luta du, Chahat me uski main khud ko mita du, Kab ayega vo jiska es...

Khuda Buri Nazar Se Bachaye Aap Ko, Chand Sitaron Se Sajaye Aap Ko, Ghum Kya Hota Hai Ye Aap Bhool Hi Jao, Khuda Zindagi Mai Itna Hasaye Aap Ko. HAPPY BIIRTHDAY ? ? खुदा बुरी...

ज़रा सी ज़िन्दगी ज़रा सी ज़िन्दगी में, व्यवधान बहुत हैं, तमाशा देखने को यहां, इंसान बहुत हैं! कोई भी नहीं बताता, ठीक रास्ता यहां, अजीब से इस शहर में, ‘नादान’ बहुत हैं! न करना भरोसा...

Kabhi Mom Ban Ke Pighal Gaya, Kabhi Girte Girte Sambhal Gaya, Use Rokta Bhi To Kis Tarah, Ke Woh Shakhs Kitna Ajeeb Tha, Kabhi Tadap Gaya Meri Aah Se, Kabhi Aansu Se Bhi Na Pighal...

बड़े शौक से बनाया तुमने मेरे दिल मे अपना घर जब रहने की बारी आई तो तुमने ठिकाना बदल दिया। इश्क का धंधा ही बंद कर दिया साहेब। मुनाफे में जेब जले.. और घाटे में...

तय है बदलना, हर चीज बदलती है इस जहां में, किसी का दिल बदल गया, किसी के दिन बदल गए। यूं तो किसी चीज के मोहताज नही हम, बस एक तेरी आदत सी हो गयी...

leaf-right
leaf-right