Kitaaben Jhankti Hai

  • By Admin

  • November 14, 2020

किताबें झाँकती हैं बंद आलमारी के शीशों से  बड़ी हसरत से तकती हैं महीनों अब मुलाकातें नहीं होती जो शामें उनकी सोहबत में कटा करती थीं अब अक्सर गुज़र जाती है कम्प्यूटर के पर्दों पर बड़ी बेचैन रहती हैं क़िताबें उन्हें अब नींद में चलने की आदत हो गई है जो कदरें वो सुनाती थी कि जिनके  जो रिश्ते वो सुनाती थी वो सारे उधरे-उधरे हैं कोई सफा पलटता हूँ तो इक सिसकी निकलती है कई लफ्ज़ों के मानी गिर पड़े हैं बिना पत्तों के सूखे टुंड लगते हैं वो अल्फ़ाज़ जिनपर अब कोई मानी नहीं उगते जबां पर जो ज़ायका आता था जो सफ़ा पलटने का अब ऊँगली क्लिक करने से बस झपकी गुजरती है किताबों से जो ज़ाती राब्ता था, वो कट गया है कभी सीने पर रखकर लेट जाते थे कभी गोदी में लेते थे कभी घुटनों को अपने रिहल की सूरत बनाकर नीम सजदे में पढ़ा करते थे, छूते थे जबीं से वो सारा इल्म तो मिलता रहेगा आइंदा भी मगर वो जो किताबों में मिला करते थे सूखे फूल और महके हुए रुक्के किताबें मँगाने, गिरने उठाने के बहाने रिश्ते बनते थे उनका क्या होगा वो शायद अब नही होंगे!! Gulzar

Related Post

आदतन तुम ने कर दिये वादे  आदतन हम ने ऐतबार किया तेरी राहों में हर बार रुक कर  हम ने अपना ही इन्तज़ार किया अब ना माँगेंगे जिन्दगी या रब  ये गुनाह हम ने एक...

आँखों में जल रहा है क्यूँ बुझता नहीं धुआँ  उठता तो है घटा-सा बरसता नहीं धुआँ  चूल्हे नहीं जलाये या बस्ती ही जल गई कुछ रोज़ हो गये हैं अब उठता नहीं धुआँ  आँखों के...

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई  जैसे एहसान उतारता है कोई  आईना देख के तसल्ली हुई  हम को इस घर में जानता है कोई  पक गया है शज़र पे फल शायद  फिर से पत्थर उछालता...

नज़्म उलझी हुई है सीने में मिसरे अटके हुए हैं होठों पर उड़ते-फिरते हैं तितलियों की तरह लफ़्ज़ काग़ज़ पे बैठते ही नहीं कब से बैठा हुआ हूँ मैं जानम सादे काग़ज़ पे लिखके नाम...

हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते  वक़्त की शाख़ से लम्हें नहीं तोड़ा करते  जिस की आवाज़ में सिलवट हो निगाहों में शिकन  ऐसी तस्वीर के टुकड़े नहीं जोड़ा करते  शहद जीने का...

देखो, आहिस्ता चलो, और भी आहिस्ता ज़रा देखना, सोच-सँभल कर ज़रा पाँव रखना, ज़ोर से बज न उठे पैरों की आवाज़ कहीं. काँच के ख़्वाब हैं बिखरे हुए तन्हाई में, ख़्वाब टूटे न कोई, जाग...

leaf-right
leaf-right