Nazar Sy Door Reh Kar – Hindi Shayari

Nazar Sy Door Reh Kar ..
Bhi Kisi Ki Soch Main Rehna,
Kisi K Pass Rehne Ka ..
Tareeqa Ho To Aisa Ho.

- Hindi Shayari

Related Post

अजीब तमाशा है मिट्टी से बने लोगो का, बेवफाई करो तो रोते है और वफा करो तो रुलाते है। अकेला वारिस हूँ उसकी तमाम नफरतों का, जिसके सारे शहर में आशिक हजार है। मोहब्बत तेरी...

Woh Andhera Hi Sahi Tha Ki Kadam Rah Par The, Roshni Le Aaye Muje Manzil Se Bahot Door. वह अँधेरा ही सही था कि कदम राह पर थे, रौशनी ले आये मुझे मंज़िल से बहुत...

Koi Bhi Insan Jahan Mein Hamein Sachha Nahi Lagta, Dar Dar Bhatkna Pyar Mein Hamein Achha Nahi Lagta, Mali Ne Kaha Tha Ki Aur Bhi Hain Phool Chaman Mein, Magar Kya Karein Har Phool Hamein...

मैंने तो देखा था बस एक नजर के खातिर, क्या खबर थी की रग-रग में समां जाओगे तुम। ? मेरे इश्क़ के तरीके बेहद जुदा हैं.. औरों से मुझे तन्हा होने पर भी इश्क़ करना...

उसके चले जाने के बाद.. हम महोबत नहीं करते किसी से.. छोटी सी जिन्दगी है.. किस किस को अजमाते रहेंगे| - Bewafa Shayari

प्यार की भी अलग ही प्रथा है, पल भर में हो जाता है उम्र भर के लिए। ? चर्चे इश्क के नही इश्कबाजों के होते है, इश्क तो आज भी खुदा की बंदगी है..!! बेताब...

leaf-right
leaf-right