Rishte Bas Rishte Hote Hai

  • By Admin

  • November 14, 2020

रिश्ते बस रिश्ते होते हैं कुछ इक पल के कुछ दो पल के कुछ परों से हल्के होते हैं बरसों के तले चलते-चलते भारी-भरकम हो जाते हैं कुछ भारी-भरकम बर्फ़ के-से बरसों के तले गलते-गलते हलके-फुलके हो जाते हैं नाम होते हैं रिश्तों के कुछ रिश्ते नाम के होते हैं रिश्ता वह अगर मर जाये भी बस नाम से जीना होता है बस नाम से जीना होता है रिश्ते बस रिश्ते होते हैं Gulzar

Related Post

एक शरीर में कितने दो हैं, गिन कर देखो जितने दो हैं। देखने वाली आँखें दो हैं, उनके ऊपर भवें भी दो हैं, सूँघते हैं ख़ुश्बू को जिससे नाक एक है, नथुने दो हैं। भाषाएँ...

एक बौछार था वो शख्स, बिना बरसे किसी अब्र की सहमी सी नमी से जो भिगो देता था… एक बोछार ही था वो, जो कभी धूप की अफशां भर के दूर तक, सुनते हुए चेहरों...

आदतन तुम ने कर दिये वादे  आदतन हम ने ऐतबार किया तेरी राहों में हर बार रुक कर  हम ने अपना ही इन्तज़ार किया अब ना माँगेंगे जिन्दगी या रब  ये गुनाह हम ने एक...

आप की खा़तिर अगर हम लूट भी लें आसमाँ क्या मिलेगा चंद चमकीले से शीशे तोड़ के! चाँद चुभ जायेगा उंगली में तो खू़न आ जायेगा #gulzar  #गुलज़ार  #त्रिवेणी

मचल के जब भी आँखों से छलक जाते हैं दो आँसू  सुना है आबशारों को बड़ी तकलीफ़ होती है(१)  खुदारा अब तो बुझ जाने दो इस जलती हुई लौ को  चरागों से मज़ारों को बड़ी...

बस एक चुप सी लगी है, नहीं उदास नहीं! कहीं पे सांस रुकी है! नहीं उदास नहीं, बस एक चुप सी लगी है!! कोई अनोखी नहीं, ऐसी ज़िन्दगी लेकिन! खूब न हो, मिली जो खूब...

leaf-right
leaf-right