दर्द शायरी Category

दर्द-ए-दिल की दवा – दर्द शायरी

अब मेरे दर्द-ए-दिल की दवा तू न कर,हर दवा तेरी यूँ ही बिखर जाएगी,दिल के ज़ख्मों पे तू कोई मरहम न कर,ये अदा तेरी दिल में उतर जाएगी,आशियाना है ग़म-ए-ज़िन्दगी का मेरी,दूर होते ही उल्फ़त बिखर जाएगी।~ बलराम सिंह – दर्द शायरी

Read More »

रोने से तसल्ली – दर्द शायरी

वक़्त ही दर्द के काँटों पे सुलाए दिल को,वक़्त ही दर्द का एहसास मिटा देता है,रोने से तसल्ली कभी हो जाती थी,अब तबस्सुम मेरे होंठों को जला देता है। – दर्द शायरी

Read More »

कातिल भी रोयेगा – दर्द शायरी

महफ़िल भी रोएगी हर दिल भी रोयेगा,डुबा कर मेरी कश्ती साहिल भी रोयेगा,इतना प्यार बिखेर देंगे दुनिया में हम,कत्ल करके हमारा कातिल भी रोयेगा। – दर्द शायरी

Read More »

किसने दर्द दिया – दर्द शायरी

जख्म जब मेरे सीने के भर जाएंगे,आँसू भी मोती बन के बिखर जाएंगे,ये मत पूछना किसने दर्द दिया,वरना कुछ अपनों के चेहरे उतर जाएंगे। – दर्द शायरी

Read More »