याद शायरी

जहाँ भूली हुई यादें – याद शायरी – याद शायरी

जहाँ भूली हुई यादें
( एडमिन द्वारा दिनाँक 03-11-2015 को प्रस्तुत )
जहाँ भूली हुई यादें दामन थाम लें दिल का, वहां से अजनबी बन कर गुज़र जाना ही अच्छा है।

– याद शायरी

तेरी याद में – याद शायरी – याद शायरी

तेरी याद में
( एडमिन द्वारा दिनाँक 15-11-2015 को प्रस्तुत )
फिर पलट रही हैं सर्दियों की सुहानी रातें,फिर तेरी याद में जलने के जमाने आ गए।

– याद शायरी

हर याद को भूल जाता – याद शायरी – याद शायरी

हर याद को भूल जाता
( एडमिन द्वारा दिनाँक 18-11-2015 को प्रस्तुत )
उसकी यादों को किसी कोने में छुपा नहीं सकता,उसके चेहरे की मुस्कान कभी भुला नहीं सकता,मेरा बस चलता तो उसकी हर याद को भूल जाता,लेकिन इस टूटे दिल को मैं समझा नहीं सकता।

– याद शायरी

तेरी यादें हर रोज़ – याद शायरी – याद शायरी

तेरी यादें हर रोज़ ( एडमिन द्वारा दिनाँक 18-11-2015 को प्रस्तुत ) तेरी यादें हर रोज़ आ जाती हैं मेरे पास,लगता है तुमने बेवफ़ाई नहीं सिखाई इनको।————————————–शिकायत करूँ तो किससे करूँ, ये तो क़िस्मत की बात है,तेरी सोच में भी मैं नहीं, मुझे लफ्ज़ लफ्ज़ तू याद...